ग्रामीण क्षेत्रों के लिए बिजनेस आइडियाज । Village Business Ideas in Hindi.

Village business ideas in hindi – यह सच है की ग्रामीण भारत में शहर की तुलना में सिमित बिजनेस ही किये जा सकते हैं। इसलिए लोग इनके बारे में जानने को उत्सुक रहते हैं। यह बात सर्वविदित है की ग्रामीण भारत से शहरों की तरफ रोजगार प्राप्त करने के लिए बड़ी मात्रा में पलायन होता है। और जब ग्रामीण युवाओं से आप इस मुद्दे पर बात करेंगे, तो आप यही पाएँगे की वे लोग भी अपने गाँव से पलायन नहीं करना चाहते। लेकिन चूँकि गाँव में रोजगार के साधन सीमित होते हैं, इसलिए उन्हें अपनी आजीविका कमाने के लिए शहरों की तरफ पलायन करना पड़ता है।

ऐसे में ये लोग पलायन करने से पहले यह भी जानना चाहते हैं, की ऐसे कौन कौन से Village Business Ideas हैं, जिन्हें वे ग्रामीण क्षेत्र से भी आसानी से शुरू कर सकते हैं। ऐसे बिजनेस की लिस्ट में ज्यादा कृषि क्षेत्र से जुड़े हुए बिजनेस ही शामिल होते हैं, लेकिन कुछ ऐसे व्यापार भी हैं, जो जहाँ मनुष्य रहता है वहाँ स्वत: ही पैदा हो जाते हैं।

best village business ideas

इसलिए यदि आप भी अपने गाँव में कोई बिजनेस शुरू करने का विचार कर रहे हैं, लेकिन आपको समझ नहीं आ रहा की ग्रामीण क्षेत्रों में किस प्रकार के बिजनेस चल सकते हैं। तो आपकी सहायता के लिए हम यहाँ पर कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में शुरू किये जा सकने वाले बिजनेस की लिस्ट दे रहे हैं।      

पूरा लेख एक नजर में

ग्रामीण बिजनेस क्या होते हैं (What are Village businesses):

यह तो आप जानते ही होंगे की ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरों में अधिक बिजनेस किये जा सकते हैं। और चूँकि शहरों में लोगों की आमदनी और ग्राहकों की संख्या भी अधिक होती है, इसलिए यहाँ बिजनेस से होने वाली कमाई या लाभ होने की संभावना अधिक हो जाती है। लेकिन कुछ लोग जो अपने गाँव से बाहर नहीं जाना चाहते और गाँव के अन्य लोगों को भी रोजगार प्रदान करना चाहते हैं। वे कुछ ऐसे बिजनेस की तलाश में रहते हैं, जिन्हें गाँव से भी शुरू किया जा सकता है। यानिकी ऐसे व्यवसाय जिन्हें ग्रामीण इलाकों से भी शुरू किया जा सकता है, उन्हें Village Business कहा जा सकता है।

गाँव से शुरू किये जाने वाले बिजनेस आम तौर पर कृषि कार्यों से सम्बंधित होते है। जैसे डेयरी फार्मिंग, पोल्ट्री फार्मिंग, फिश फार्मिंग के अलावा कुछ खाद्य प्रसंस्करण बिजनेस जिनके लिए गाँवों में कच्चा माल आसानी से मिल जाता है। ग्रामीण इलाकों से भी शुरू किये जा सकते हैं। इस तरह के ये व्यवसाय ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुधारने और शहरों की तरफ होने वाले पलायन को कम करने में मददगार साबित होते हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों से शुरू किये जा सकने वाले बिजनेस (Top Village Business Ideas in Hindi):

यद्यपि वर्तमान में ग्रामीण इलाकों तक सड़क यानिकी यातायात की सुविधा होने के कारण ग्रामीण इलाकों से भी कई बिजनेस किये जा सकते हैं । लेकिन हमने यहाँ पर इस लेख में कुछ बढ़िया शीर्ष बिजनेस को ही चुना है। जो वास्तव में गाँवों की आर्थिक प्रणाली को सुधारने और गाँव में रह रहे लोगों को रोजगार दिलाने में मददगार हो सकते हैं।          

1. मुर्गी पालन (Poultry farming Business)

स्थानीय बाज़ारों से लेकर अंतराष्ट्रीय बाज़ारों तक में मुर्गी के मांस एवं अण्डों की कितनी माँग है, इस बात का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं, की बहुत बार आपके साथ ऐसा हो जाता है, की आप अपने नजदीकी चिकन शॉप में चिकन खरीदने जाते हैं। लेकिन उसके पास मुर्गियाँ ही नहीं होती, कहने का आशय यह है की मुर्गी की बिक्री में उद्यमी को किसी प्रकार की कोई कठिनाई नहीं आने वाली है।

इसलिए यदि आप अपने गाँव में ही कुछ बिजनेस करने का विचार कर रहे हैं, तो आप मुर्गी पालन नामक इस बिजनेस को शुरू करने पर विचार कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे, आप अपने मुर्गियों को कहाँ बेचेंगे? कैसे सप्लाई करेंगे? इत्यादि पर विचार करने के अलावा मुर्गी पालन करने का आधुनिक तरीका भी अपनाना होगा। ताकि एक निर्धारित समय में मुर्गियाँ परिपक्व हो सके। 

2. बकरी पालन (Goat Farming Business)

मुर्गी पालन बिजनेस की तरह ही बकरी पालन भी एक पारम्परिक व्यवसाय है, और ग्रामीण भारत में बकरियाँ हमेशा से मनुष्य की आजीविका का माध्यम रही हैं । लेकिन वर्तमान में बकरी पालन करने के तरीकों में काफी बदलाव आ गया है, और इस तरह का यह व्यवसाय करने वाले उद्यमी आधुनिक उपकरणों, दवाओं, खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल करके अपने पशु को भरपूर पोषण प्रदान करते हैं।  ताकि उसकी प्रगति एक निर्धारित समय के अन्दर हो पाए, और वह उन्हें बेचकर पैसे कमाई करने में सक्षम हो। 

3. ट्रेक्टर किराये पर देने का बिजनेस

ग्रामीण भारत में लोगों के पास करने के लिए प्रमुख काम कृषि यानिकी खेती होती है, और हर किसान की इतनी सामर्थ्य नहीं होती की वह ट्रेक्टर खरीद सके। ऐसे में आप चाहें तो उन किसानों को जिनके पास खुद का ट्रेक्टर नहीं है को टारगेट करते हुए इस बिजनेस को धरातल के पटल पर उतार सकते हैं।

यदि आपके पास पहले से कोई ट्रेक्टर है तो ठीक है अन्यथा आप इसे खरीदकर भी ट्रेक्टर किराये पर देने का बिजनेस शुरू कर सकते हैं। खेत जोतने के अलावा ग्रामीण भारत में ट्रेक्टर से मिटटी, फसलें, लकड़ी इत्यादि ढोने का काम भी किया जाता है।     

4. भेड़ पालन (Sheep farming)

भेड़ भी बकरी की तरह ही छोटा पशु होता है, इसलिए इसको पालने में भी बहुत अधिक जगह की आवश्यकता नहीं होती। उद्यमी चाहे तो बकरियों के साथ साथ ही भेड़ पालन भी शुरू कर सकता है, या फिर अलग से उनके रहने, खान पान की व्यवस्था करके भी इस व्यापार को शुरू कर सकता है।

ग्रामीण भारत में पारम्परिक तरीकों से इस तरह का बिजनेस किया जाता है और भेड़ या बकरियों को चरागाहों में चराने के लिए ले जाया जाता है, लेकिन पशु की अच्छी ग्रोथ के लिए हरी घास के अलावा अन्य पौष्टिक आहार भी आवश्यक है।    

5. Best Village Business डेयरी फार्मिंग

पशु पालन जैसे भैंस पालन, गाय पालन एवं बैल घोड़ों इत्यादि को सदियों से पाला जाता रहा है। जहाँ बैल घोड़ों इत्यादि का पालन हल चलाने, बोझा ढोने इत्यादि उद्देश्य के लिए किया जाता है। वहीँ गाय, भैंस का पालन दुग्ध उत्पादन के लिए किया जाता है। लेकिन जब बात डेयरी फार्मिंग नामक व्यवसाय की हो रही है, तो एक या दो गाय या भैंस पालना डेयरी फार्मिंग बिजनेस का हिस्सा नहीं है ।

बल्कि जब आप इस तरह का व्यापार शुरू करने का विचार कर रहे होते हैं तो आपको 7-10 पशु या इससे भी अधिक से शुरू करने का विचार करना पड़ता है। पारम्परिक पशु पालन में लोग पशुओं को उसी घर में रखते हैं जहाँ वे खुद रहते हैं।

जबकि व्यवसायिक तौर पर डेयरी फार्मिंग करने के लिए आपको पशुओं के लिए अलग से छप्पर या पक्का घर बनाने की आवश्यकता हो सकती है। भले ही इस तरह के व्यापारिक विचार को अमल में लाने में आपको अन्य की तुलना में थोड़ा अधिक पैसा खर्चा करने की आवश्यकता होती है। लेकिन यह एक लाभकारी व्यवसाय है।          

6. केंचुआ खाद बनाने का बिजनेस (vermicompost business)

केंचुआ खाद यानिकी वर्मीकम्पोस्ट जिसे जैविक कचरे से तैयार किया जाता है, गाँव से शुरू किया जाने वाला एक बेहतरीन बिजनेस हो सकता है। क्योंकि इसका निर्माण और उपभोग ग्रामीण क्षेत्र में ही आसानी से हो जाएगा। किसानों का जैविक खेती की ओर बढ़ता रुझान और जैविक उत्पादों के प्रति लोगों की बढती रूचि, इस तरफ स्पष्ट इशारा करती है की, आने वाले समय में वर्मीकम्पोस्ट बनाने का व्यापार काफी फायदेमंद होने वाला है।   

7. मशरुम की खेती (Mushroom farming)

गांवों में बहुत सारे घर खाली पड़े रहते हैं, क्योंकि जिनका वो घर होता है वे शहरों की ओर पलायन कर चुके होते हैं। आप चाहें तो ऐसे घरों के मालिकों से बात करके उन्हें कुछ किराया ऑफर कर सकते हैं। या आपके पास गाँव में एक से अधिक घर है तो आप अपने स्वयं के घर के कमरों से ही इस व्यवसाय की शुरुआत कर सकते हैं। जी हाँ मशरूम फार्मिंग व्यापार शुरू करने के लिए आपको खेत की नहीं बल्कि घर के कमरों की आवश्यकता होती है, जहाँ मशरूम नामक इस फंफूंद को उगाया जा सके।    

8. फूलों की खेती (Flower farming)

यदि आपके गाँव तक सड़कें इत्यादि अच्छी हैं, जो किसी प्रमुख शहर को जोड़ती हैं तो आपके लिए ग्रामीण बिजनेस के तौर पर फूलों की खेती करना लाभप्रद हो सकता है। वर्तमान में जब मनुष्य हर छोटी बड़ी ख़ुशी को सेलिब्रेट कर रहा है, तो लोगों को उपहार देने का प्रचलन भी बढ़ गया है । फूलों का इस्तेमाल गुलदस्ते बनाने, विभिन्न समारोहों में सजावट के तौर पर, माला बनाने इत्यादि के लिए किया जाता है।  

9. खाद वितरण बिजनेस (Fertilizer distributor)

हालांकि इसमें तो कोई दो राय नहीं की ग्रामीण भारत में लोगों का प्रमुख काम कृषि या खेती करना ही है। लेकिन कुछ क्षेत्रों में अच्छी फसलें होती हैं, तो कई ऐसे क्षेत्र भी हैं जहाँ अपेक्षा के मुताबिक फसल उत्पादन नहीं हो पाता ।

यदि आप भी किसी कृषि बाहुल क्षेत्र से सम्बन्ध रखते हैं, तो आप खाद वितरण बिजनेस शुरू करने के लिए प्रयत्न कर सकते हैं। खाद वितरण सरकार के नियंत्रण में होता है, इसलिए इस तरह की एजेंसी प्राप्त करने के लिए आपको सरकार के सम्बंधित विभाग से ही संपर्क करने की आवश्यकता होती है। 

10. सबसे अच्छा Village Business सस्ते गल्ले की दुकान

यह तो हम सब जानते हैं की सरकार राशन कार्ड धारकों को हर महीने सस्ते दरों पर कुछ निर्धारित मात्रा में अनाज उपलब्ध कराती हैं। इनमें मुख्य तौर पर गेहूं, चावल होता है। इसलिए यदि आप भी अपने गाँव में कुछ व्यापार शुरू करने का विचार कर रहे हैं, तो आप सस्ते गल्ले की दुकान के बारे में विचार कर सकते हैं। हालांकि इसमें सरकार एक निर्धारित एरिया में केवल एक ही सस्ते गल्ले की दुकान खोलने की इजाजत देती है।

लेकिन यदि आपने मौजूद राशन कार्ड धारकों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, यह बात सरकार को समझा दी की आप राशन कार्ड धारकों की किसी एक ऐसी समस्या का हल कर रहे हैं, जो मौजूदा डीलर नहीं कर पा रहा है। इसमें दुकान की दूरी, दुकानदार का व्यवहार, राशन कार्ड धारकों को पूरा राशन न देना इत्यादि शामिल हो सकता है। तो इस बिजनेस को शुरू करने में आप सक्षम हो सकते हैं।      

11. शादी के कपड़े और आर्टिफीसियल ज्वेलरी किराये पर देना

शादियाँ या अन्य सेलिब्रेशन सिर्फ शहरों में नहीं होते, बल्कि यह तो गाँव में भी होते हैं, और आपने ध्यान दिया होगा, शादियों या किसी अन्य आयोजन में महिलाओं और लड़कियों को संजने सँवरने का कितना शौक होता है। और इसमें भी कोई दो राय नहीं की वे अपने इस शौक को पूरा करने के लिए थोड़े बहुत पैसे खर्च करने के लिए भी तैयार रहते हैं। इसलिए आप चाहें तो शादी के कपड़े और आर्टिफीसियल ज्वेलरी किराये पर देने का काम भी शुरू कर सकते हैं।

12. मधुमक्खी पालन (Bee farming)

शहद का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार की दवाओं, आयुर्वेदिक औषधियों और घरों में होम रेमेडी के तौर पर भी बड़े पैमाने पर किया जाता है । इसलिए इस बात की कोई चिंता ही नहीं है की हम अपने शहद को कहाँ बेचेंगे । यकीन मानिये शुद्ध शहद के खरीदने वालों की भारत में कोई कमी नहीं है, इसके अलावा आप चाहें तो किसी फार्मास्यूटिकल कंपनी से टाई अप भी कर सकते हैं। मधुमक्खी पालन नामक इस व्यापार को शुरू करने से पहले उचित प्रशिक्षण प्राप्त करने की आवश्यकता हो सकती है।   

13. मछली पालन (Fish farming)

मछली को तो आप आसानी से देश के किसी भी कोने में बेच सकते हैं, क्योंकि मछली खाने वालों की भारत में कोई कमी नहीं है । मछली पालन भी गाँव से शुरू किये जाने वाले Village Business की लिस्ट में प्रमुख है। इस तरह के व्यवसाय के लिए तो कई राज्य सरकारें सब्सिडी ऋण तक मुहैया कराती है। ताकि ग्रामीण अर्थव्यवस्था को भी थोड़ा मजबूत किया जा सके। मछली पालन में कई तकनिकी पहलू ऐसे हैं, जिन्हें करने के लिए एक आम आदमी नहीं, बल्कि एक प्रशिक्षित व्यक्ति चाहिए होता है। इसलिए मछली पालन बिजनेस शुरू करने से पहले भी प्रशिक्षण लिया जाना चाहिए।      

14. आटा चक्की का बिजनेस

कृषि बाहुल क्षेत्रों में आज भी लोग पूरे साल में लगने वाले गेहूं एक साथ खरीदकर अपने घर में स्टोर कर लेते हैं । और जरुरत पड़ने पर थोड़े थोड़े करके आटा चक्की में पिसाते रहते हैं। इसलिए यदि आप अपने गाँव में कोई बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आटा चक्की बिजनेस ग्रामीण क्षेत्रों में शुरू किया जाने वाला एक बेस्ट बिजनेस है।

अच्छी बात यह है की आप इस तरह के व्यापार को बेहद कम निवेश के साथ भी आसानी से शुरू कर सकते हैं। वर्तमान में बिजली से चलने वाली आटा चक्की एवं पूरे सिस्टम को 50-80हज़ार रूपये में आसानी से ख़रीदा जा सकता है। और इस तरह की चक्की को चलाने के लिए किसी खास प्रशिक्षण की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसलिए इस व्यवसाय को कोई भी इच्छुक व्यक्ति आसानी से शुरू कर सकता है।      

15. मसाले बनाने का व्यापार (Spice business)

जितने भी मसाले हम अपने रसोईघर में इस्तेमाल में लाते हैं, इनकी पैदावार जमीन यानिकी कृषि के माध्यम से ही होती है। इसलिए यदि आप ऐसे कृषि बाहुल क्षेत्र में रहते हैं, जहाँ पर रसोईघर में इस्तेमाल में लाये जाने वाले विभिन्न मसालों जैसे हल्दी, मिर्च, जीरा, धनिया, सौंप, लहसुन, अदरक इत्यादि की पैदावार अधिक होती हो। तो आप वहां पर मसाले बनाने का व्यापार शुरू कर सकते हैं।  

इसमें कुछ मसाले ऐसे होते हैं, जिन्हें पिसने की आवश्यकता होती है, और कुछ मसाले साबुत इस्तेमाल में लाए जा सकते हैं, लेकिन उनसे गंदगी जैसे मिटटी, कंकड़ इत्यादि को दूर करने की आवश्यकता होती है। इस व्यवसाय में उद्यमी को किसानों से कच्चे माल के रूप में मसाले खरीदकर उन्हें पीसकर एवं छंटनी करके अपने ब्रांड नाम के तहत पैकिंग करके बाजार में उतारना होता है।  

16. आचार बनाने का काम

ग्रामीण भारत में आचार बनाने के बिजनेस में इस्तेमाल होने वाला कच्चा माल जैसे आम, नींबू, मिर्च, मसाले, साग, सब्जियाँ आसानी से एवं उचित दर पर मिल जाती हैं। इसके अलावा आचार बनाने की प्रक्रिया भी बेहद आसान होती है, और इसे बहुत ही कम निवेश के साथ भी शुरू किया जा सकता है। और इस तरह का व्यवसाय शुरू करके ग्रामीण महिलाओं को काम पर रखकर उन्हें भी रोजगार दिया जा सकता है।   

17. पापड़ बनाने का काम (Papad making)

पापड़ बनाने के लिए भी कच्चे माल के तौर पर दालों की आवश्यकता होती है। और दालें भी कृषि से उत्पादित उत्पाद हैं, इसलिए यदि आपके गाँव या उसके आस पास दालों का उत्पादन अधिक होता है। तो आप ग्रामीण व्यवसाय (Village Business) के तौर पर पापड़ बनाने का काम शुरू कर सकते हैं । शहरों में कई कारणों से पापड़ की मांग बहुत अधिक है। इस काम में भी ग्रामीण महिलाओं की मदद लेकर उन्हें रोजागर के साथ जोड़ा जा सकता है।     

18. सुनार की दुकान (Goldsmith shop)

सुनार की दुकान यानिकी सोने के आभूषण बनाकर उन्हें बेचने का काम, हालांकि इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने के लिए आपको सोने से आभूषण बनाने का ज्ञान , और अधिक निवेश करने की आवश्यकता होती है। इसलिए इस व्यवसाय को गाँव में भी सिर्फ वही लोग कर सकते हैं, जिन्हें सोने, चाँदी इत्यादि कीमती धातुओं से आभूषण बनाने की कला आती हो, और उसके पास इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए उपयुक्त पैसे हों।

ग्रामीण भारत में भी महिलाओं को सोने चाँदी के आभूषण खरीदने का काफी शौक होता है, इसलिए इस तरह की दुकान किसी स्थानीय मार्किट में आसानी से चलायी जा सकती है।  

19. लोहार का काम (Blacksmith work)

ग्रामीण भारत में कृषि की जाती है, तो खेती करने के लिए अनेकों लोहे के उपकरण, कुदाल, दराती, हल का फल, सब्बल, हथौड़े इत्यादि इस्तेमाल में लाये जाते हैं । इनमें लगभग सभी लोहे के उपकरण ऐसे होते हैं, जिनकी धार बार बार कुंद हो जाती है, और उन्हें तेज कराने की आवश्यकता होती है। यदि आप ग्रामीण भारत में बिजनेस शुरू करने पर विचार कर रहे हैं, तो आप लोहार का काम शुरू करने के बारे में भी विचार कर सकते हैं ।  

20. चिकन मटन की दुकान

जिस प्रकार किसी स्थानीय मार्किट में सुनार का होना जरुरी है, लोहार का होना जरुरी है उसी प्रकार चिकन मटन की दुकान का होना भी जरुरी है । वैसे देखा जाय तो शहर की तुलना में ग्रामीण लोग ज्यादा मीट, मांस, मछली पसंद करने वाले होते हैं। यही कारण है की आप चाहें तो खुद की चिकन मटन की दुकान भी शुरू कर सकते हैं। लेकिन इस काम में भले ही आप कितनी भी स्वच्छता रखें, थोड़ी बहुत गंदगी तो हो ही जाती है । और हो सकता है उस गंदगी से थोड़ी बहुत बदबू भी आए। इसलिए आप और आपका शरीर उस बदबू को सहन करने वाला होना चाहिए।  

21. जनरल स्टोर (General Store Business)

ग्रामीण क्षेत्र में रह रहे लोगों को भी अपने दैनिक कार्यों को निपटाने और दैनिक जीवन को जारी रखने के लिए अनेकों वस्तुओं की आवश्यकता होती है । यही कारण है की यहाँ भी जनरल स्टोर बिजनेस को एक लाभकारी व्यवसाय के तौर पर देखा जाता है। इस तरह के इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको किसी प्रकार के विशिष्ट कौशल की आवश्यकता नहीं होती है। इसलिए कोई भी इच्छुक व्यक्ति इस तरह के व्यवसाय को गाँव में आसानी से शुरू कर सकता है।  

22. ब्लॉगिंग (Blogging)

यदि आपके गाँव में इन्टरनेट अच्छा चलता है, और आपको लिखने, पढने इत्यादि का बेहद शौक है। और सबसे बड़ी बात किसी टॉपिक पर आपकी अच्छी पकड़ है, तो आप ब्लॉग्गिंग शुरू कर सकते हैं। शुरू में सिर्फ ट्राई करने के लिए आप ब्लॉगर के माध्यम से फ्री में खुद का ब्लॉग बनाकर इसके बारे में अनुभव प्राप्त कर सकते हैं।

और जब आपको इसकी अच्छी जानकारी हो जाय तो वर्डप्रेस पर सेल्फ होस्टेड ब्लॉग भी बना सकते हैं। लेकिन यह बेहद धीमी प्रक्रिया है परिणाम आने में सालों लग सकते हैं, इसलिए धैर्य बनाये रखने की काफी जरुरत होती है । चूँकि इसे कहीं से भी शुरू किया जा सकता है, इसलिए यह भी Village Business Ideas में शामिल है।    

23. विडियो बनाना

प्रसिद्ध विडियो शेयरिंग वेबसाइट यूट्यूब के बारे में तो आप जानते ही होंगे। यदि आपको क्रिएटिविटी पसंद है, और आप समझते हैं की आप लोगों को कुछ दे सकते हैं, कुछ टिप्स, ज्ञान, मनोरंजन, हास्य या रोना । तो आप अपनी स्क्रिप्ट बनाकर विडियो बनाना शुरू कर सकते हैं, और इन विडियो को यूट्यूब पर अपना चैनल बनाकर अपलोड कर सकते हैं।

जब आपका कंटेंट लोगों को पसंद आने लगता है तो आपकी ऑडियंस और सब्सक्राइबर दोनों बढ़ने लगते हैं । उसके बाद आप अपने चैनल को गूगल एडसेंस के साथ मोनेटाइज करके विज्ञापन से पैसे कमाना शुरू कर सकते हैं।

इस व्यवसाय को धरातल के पटल पर उतारने के लिए भी आपके गाँव में इन्टरनेट बढ़िया चलना चाहिए। क्योंकि जिस गाँव में इन्टरनेट नहीं चलेगा, वहाँ पर यह बिजनेस नहीं किया जा सकता है।      

24. कम पैसों का Village Business ड्रापशिपिंग

ड्रापशिपिंग में सबसे पहले आपको किसी विनिर्माणकर्ता, विक्रेता, ईकॉमर्स कंपनी इत्यादि से टाई अप करने की आवश्यकता होती है। उसके बाद उनके प्रोडक्ट को खुद के डिजिटल स्टोर पर दिखाने की आवश्यकता होती है, जब कोई ग्राहक आपके डिजिटल स्टोर से कोई प्रोडक्ट खरीदता है, तो उस विनिर्माणकर्ता या विक्रेता को जिसका वह प्रोडक्ट है को इस बात का पता लग जाता है। इसलिए वह आपसे पेमेंट लेकर उस प्रोडक्ट को ग्राहक के एड्रेस पर भेज देता है।

इस व्यापार के लिए भी इन्टरनेट का चलाना अनिवार्य है, और अच्छी बात यह है की इसमें उद्यमी को कुछ खरीदना नहीं है, बल्कि खरीदारी होने पर अपना पप्रॉफिट अलग रखना है।     

25. ऑनलाइन फ्रीलांसिंग (Freelancing)

यदि आपके पास वेबसाइट डेवलपमेंट, कोडिंग, फोटोशॉप, प्रीमियर प्रो, कोरेल ड्रा इत्यादि की अच्छी जानकारी है, और आप अपने गाँव से ही कोई Village Business शुरू करने की सोच रहे हैं। तो आप ऑनलाइन फ्रीलांसिंग के बारे में विचार कर सकते हैं। फ्रीलान्स इंडिया, अपवर्क, Fiverr जैसी लोकप्रिय फ्फ्रीलांसिंग प्लेटफोर्म में आप अपना प्रोफाइल बना सकते हैं। और काम मिलने पर अच्छा काम डिलीवर करके अपने रैंकिंग बढ़ा सकते हैं ।   

ग्रामीण बिजनेस क्या है?

एक ऐसा व्यवसाय जिसकी ग्रामीण क्षेत्र में चलने की संभावना हो, ग्रामीण बिजनेस कहलाता है।

क्या गाँव से भी ऑनलाइन काम किया जा सकता है?

यदि आपके गाँव में इन्टरनेट अच्छी स्पीड से चलता है, तो आप वहाँ से भी आसानी से ऑनलाइन काम कर सकते हैं।  

error: Content is protected !!