रेडीमेड कपड़े की दुकान कैसे खोलें? Kapde Ka Business Kaise Kare.

रेडीमेड कपड़े की दुकान कैसे शुरू करें (Readymade Garment Business , Kapde ki Dukan, Cloth Shop, Kapde Ka Business, Garment Shop Plan in Hindi)

कपड़े का इस्तेमाल तो सभी करते हैं, इसलिए कपड़े की दुकान भी हर छोटे बड़े बाज़ार में खोली जा सकती है। कपड़े की आवश्यकता बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक हर किसी को होती है। यही कारण है की कपड़ा उद्योग भारतीय अर्थव्यवस्था में प्रमुख भूमिका निभाता है ।

वैसे देखा जाय तो भारत में ही नहीं अपितु वैश्विक स्तर पर यह सबसे पुराने उद्योगों में से एक है, लेकिन भारत में यह कुल जीडीपी का 2.3% का योगदान देता है। भारत द्वारा जब वर्ष 2020 में वैश्विक स्तर पर कुल व्यापार का 5% हिस्सा प्रदान किया गया । तो इस योगदान में भारत का कपड़ा और परिधान की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

हालांकि भारत में कपड़े का बिजनेस संगठित एवं अंसगठित दोनों क्षेत्रों द्वारा किया जाता है। कपड़े बनाने में गली मोहल्ले में बैठे टेलर की भी भूमिका है तो वहीँ बड़ी बड़ी टेक्सटाइल कंपनियों की भी अहम् भूमिका है। लेकिन इस लेख में हम बात कपड़े की दुकान की कर रहे हैं, न की कपड़े बनाकर उसे बेचने की।

कपड़े की दुकान खोलना इसलिए लाभकारी हो सकता है, क्योंकि वर्तमान में लगभग हर अवसर पर यहाँ तक की बच्चों के स्कूल में होने वाले हर मासिक फंक्शन पर लोग अपने बच्चों के लिए अलग अलग कपड़े बनाने लग गए हैं। जन्मदिन, शादी विवाह या अन्य किसी भी अवसर पर लोग नए नए कपड़े खरीदने को लेकर उत्साहित रहते हैं।

kapde ka business
Garment Shop

कपड़े की दुकान क्या होती है

Kapde Ka Business : एक ऐसा स्थान, कमरा, बिल्डिंग जहाँ से लोग कपड़े खरीदते हैं, उसे कपड़े की दुकान कहते हैं। दुकान वाला कपड़ों को सस्ते दामों पर खरीद कर अपनी दुकान में लाता है, और उसमें अपना लाभ जोड़कर अपने ग्राहकों को बेचता है। जहाँ पहले कुछ चयनित स्थानीय बाज़ारों में ही इस तरह की दुकानें होती थी। वर्तमान में लगभग हर रिहायशी गली, मोहल्ले में कपड़े की दुकान होना एक आम बात है।

कपड़े की दुकान का बिजनेस कैसे शुरू करें  

आम तौर पर भारत में कपड़े की दुकान खोलना बेहद ही आसान प्रक्रिया है। लेकिन वर्तमान में हर क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा होने के कारण किसी भी बिजनेस को सफलतापूर्वक चलाना और उससे लाभ कमाना किसी चुनौती से कम नहीं है।

इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से कपड़े का बिजनेस शुरू करने के लिए उद्यमी को क्या क्या चीजें करने की आवश्यकता हो सकती है। ताकि वह इस प्रतिस्पर्धी बाज़ार में भी लम्बे समय तक बना रहे, उन सभी क़दमों के बारे में संक्षिप्त रूप से जानने का प्रयत्न करेंगे।

#1 कपड़े के प्रति अपनी जानकारी को परखें

हालांकि अधिकतर लोगों को लगता है की कपड़े की दुकान चलाने के लिए किसी प्रकार के तकनिकी ज्ञान की आवश्यकता तो होती नहीं। इसलिए इसे कोई भी व्यक्ति आसानी से चला सकता है। लेकिन यदि आप अपने इस व्यवसाय की सफलता को अधिक और जोखिम को कम करना चाहते हैं।

तो आपको कपड़े के प्रति आपकी जानकारी को परखना होगा। क्योंकि वर्तमान में आप आँख मूंदकर किसी पर भी भरोसा नहीं कर सकते। और यदि आप चाहते हैं की भविष्य में किसी स्थानीय बाज़ार में आपकी अच्छी साख जमे, तो आपको अपने ग्राहकों को उचित दामों पर गुणवत्तापूर्ण कपड़ा देना होगा। और यह आप तभी कर पाएंगे जब आपको खुद कपड़ों की जानकारी हो।       

#2 बिजनेस प्लान तैयार करें

आम तौर पर देखा गया है की, लोग कपड़े की दुकान को बिना कोई व्यापारिक योजना के शुरू कर देते हैं। वह शायद इसलिए क्योंकि इस व्यवसाय को बेहद कम निवेश के साथ शुरू किया जा सकता है। यही कारण है की इसमें अन्य व्यवसायों की तुलना में जोखिम कम होता है। लेकिन यदि आप कपड़े का बिजनेस शुरू करने के प्रति गंभीर हैं, तो आपको सबसे पहले इसकी एक व्यापारिक योजना बनानी होगी।

आपको अपने बिजनेस प्लान में इस व्यवसाय में आने वाली चुनौतियों और उनसे निबटने के तरीकों को लिखित रूप में प्रदर्शित करना होगा। आपके व्यवसाय में आने वाली अनुमानित लागत, और एक निर्धारित समय में होने वाली अनुमानित कमाई के अलावा व्यवसाय के लक्ष्यों और उन्हें पूरा करने की पूर्ण योजना बनानी होगी।

एक प्रभावी व्यवहारिक बिजनेस प्लान आपको न सिर्फ भविष्य में बिजनेस के लक्ष्यों को पूर्ण करने में मदद करने और उनमें जरुरी बदलाव करने में मदद करेगा, बल्कि यह आपको वित्तीय संस्थानों से ऋण इत्यादि दिलाने में भी मदद करता है।        

#3 एक अच्छी लोकेशन का चयन करें

कपड़े की दुकान का बिजनेस सफलतापूर्वक चलेगा या नहीं, इसमें यह भी बेहद महत्वपूर्ण होता है की आपकी दुकान किस लोकेशन पर स्थित है। एक ऐसी मार्किट जो लोगों के बीच कपड़े खरीदने को लेकर प्रसिद्ध हो, वहाँ पर इस तरह की दुकान खरीदकर अधिक कमाई की जा सकती है।

इसके अलावा किसी आवासीय कॉलोनी की स्थानीय मार्किट में भी कपड़े की दुकान खोलना लाभकारी हो सकता है। लेकिन दुकान ऐसी जगह पर होनी चाहिए, जहाँ तक पहुँचने के लिए आपके ग्राहकों को जद्दोजहद न करनी पड़े।

लेकिन यदि ऐसी कोई मार्किट जो कपड़ों की खरीदारी के लिए प्रसिद्ध हो, वहां तक पहुँचने के लिए लोगों को जद्दोजहद भी करनी पड़े, तो इससे कोई ज्यादा फर्क नहीं पड़ता है। किसी भी बिजनेस के लिए अच्छी लोकेशन का चुनाव करते समय कई बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता हो सकती है।       

#4 लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन के बारे में जानें

यद्यपि कपड़े की दुकान एक ऐसा बिजनेस है जिसे आप मात्र 20-50 हज़ार रुपयों के साथ भी आसानी से शुरू कर सकते हैं। इसलिए भारत में छोटे स्तर पर इस तरह का व्यवसाय शुरू करने के लिए किसी प्रकार के लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता नहीं होती है ।

लेकिन यदि आप शुरूआती दौर में जीएसटीरजिस्ट्रेशन और अपने बिजनेस के नाम से चालू बैंक खाता खोल लेते हैं। और स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम इत्यादि में भी इसका रजिस्ट्रेशन करा लेते हैं तो आने वाले समय में आप अपने बिजनेस को थोड़ा बड़ा रूप भी आसानी से दे पाएंगे।

इसलिए कपड़े की दुकान का बिजनेस शुरू करने के लिए किसी प्रकार के लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता तो नहीं है, लेकिन भविष्य में आपका व्यवसाय निरंतर आगे बढ़ता रहे। इसके लिए आप चाहें तो उपर्युक्त बताये गए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।     

#5 दुकान में इंटीरियर का काम कराएँ

कपड़े की दुकान में इंटीरियर का काम कराना बेहद जरुरी होता है। ताकि आप अलग अलग क्वालिटी और कीमतों के कपड़ों को अलग अलग स्थानों में रख सकें, और जब ग्राहक आपकी दुकान पर पहुंचे तो आप बिना अधिक समय गँवाएँ, तुरंत उसे वो चीज दिखा सके जो उसे चाहिए।

इंटीरियर का काम कराते वक्त लाइटिंग, ग्राहकों के बैठने का प्रबंध, ग्राहकों को कपड़े दिखाने की जगह इत्यादि का विशेष ध्यान रखें। कपड़े की दुकान में लाइटिंग की सुविधा अच्छी होनी चाहिए यदि लाइटिंग अच्छी न हो तो ग्राहक को अच्छा कपड़ा भी खराब लग सकता है । जबकि लाइटिंग अच्छी होने पर खराब कपड़ा भी चमकदार लग सकता है।

कपड़ों को रखने के लिए दीवार पर छोटे छोटे लकड़ी के खाने बनवाएँ, ग्राहकों को बैठने के लिए गद्दी लगे हुए बैंच मंगवाएं, ग्राहकों को कपड़ा दिखाने वाली जगह को साफ़ सुथरा एवं चमकदार बना कर रखें।     

#6 जरुरी स्टाफ भर्ती करें

हालांकि यदि आप छोटे स्तर पर कपड़े की दुकान खोलना चाहते हैं, तो आप अपनी दुकान को अपने दम पर अकेले भी चला सकते हैं। लेकिन यदि आप थोड़ी बड़ी स्तर पर इसे शुरू करना चाहते हैं, तो आपको एक या दो सेल्समैन रखने की आवश्यकता हो सकती है। जो ग्राहकों को कपड़े दिखाने के अलावा उनको प्रबंधित तरीके से रख सकें ।

आपकी दुकान में कई ग्राहक आ सकते हैं, और यह जरुरी नहीं है की जो आपकी दुकान में आ गया वह आपसे कपड़ा खरीद के ले ही जाएगा। बल्कि हो सकता है ग्राहक को आपके द्वारा दिखाए गए कपड़े पसंद न आयें, लेकिन उसे कपड़े तो दिखाने की पड़ेंगे।

इस प्रक्रिया में कपड़ों को बार बार प्रबंधित ढंग से रखने की आवश्यकता हो सकती है, इसलिए आप चाहें तो शुरूआती दौर में कम से कम एक सेल्समेन को अपने स्टाफ के रूप में भर्ती कर सकते हैं ।

#7 सप्लायर का चुनाव करें

यदि आप किसी दूर सुदूर ग्रामीण इलाके में इस तरह का यह बिजनेस करना चाहते हैं, तो हो सकता है की वहां पर आपको कोई ऐसा सप्लायर न मिले, जो जरुरत पड़ने पर आपके कपड़े की दुकान में ही कपड़ों की डिलीवरी कर जाए। ऐसी स्थिति में आपको हफ्ते में, तीन दिन में या महीने में एक बार किसी ऐसी मार्किट से कपड़े खरीदने जाना पड़ेगा, जो थोक कपड़ा बेचने के लिए प्रसिद्ध हो।

लेकिन यदि आपकी दुकान किसी ऐसे शहर या एरिया में स्थित है जहाँ पर अन्य कपड़ों की दुकानों को माल पहुँचाने के लिए सप्लायर आते रहते हैं। तो इस स्थिति में आपको एक ऐसे सप्लायर का चयन करना होगा, जो आपकी जरूरतों के हिसाब से फिट बैठता हो।         

#8 दुकान की मार्केटिंग करें

दुकान की मार्केटिंग पर पैसा खर्चा करने से पहले, अपने टारगेट कस्टमर को पहचान लें।  आपके पास दो तरह के ग्राहक आ सकते हैं, एक जो चलते फिरते ग्राहक होते हैं। अर्थात वे उस एरिया के नहीं होते जिस एरिया में आपकी दुकान है। दुसरे वे ग्राहक होते हैं, जो बार बार आपकी दुकान पर आ सकते हैं। ऐसे ग्राहक सामान्यत: उसी एरिया क्षेत्र के होते हैं, जहाँ पर आपकी कपड़े की दुकान स्थित है।

यदि आपकी दुकान के आस पास कोई आवासीय कॉलोनी है, तो आप उस आवासीय कॉलोनी को टारगेट करके अपनी दुकान की मार्केटिंग कर सकते हैं। इसके लिए आप ऑनलाइन, ऑफलाइन, नए, पुराने सभी प्रकार की मार्केटिंग तकनीकोंका इस्तेमाल कर सकते हैं।    

#9 इन्वेंटरी प्रबंधन करें

जब एक बार आपकी कपड़े की दुकान में ग्राहक आना शुरू कर देते हैं, तो आपको हर बिक्री और अपने पास उपलब्ध सामान की लिस्ट तैयार करनी होती है। यदि यह काम कंप्यूटर में हो, तो मैनेज करने में आसानी होगी। और जब आपको दुकान चलाते हुए कुछ महीने हो जाते हैं, तो आपको उस डाटा का विश्लेषण करना होता है। इसमें आपको देखना होता है की ऐसे कौन कौन से कपड़े हैं जो लोग ज्यादा खरीद रहे हैं, और ऐसे कौन से कपड़े हैं जिन्हें लोग खरीद ही नहीं रहे हैं।

उसके बाद जब आप अगला आर्डर अपने सप्लायर को देते हैं, या दुकान के लिए माल लाने खुद ही सप्लायर के पास जाते हैं, तो सामान आपके द्वारा किये गए विश्लेषण के मुताबिक ही आर्डर होना चाहिए। इसके अलावा सामान खत्म होने से पहले सामान आना जरुरी होता है, ताकि एक भी ग्राहक आपकी दुकान से बिना ख़रीदे हुए न जाय ।      

#10 कपड़े बेचें और कमाएँ

Kapde Ka business Karke Paise Kamaye : यदि आपको कपड़ों की अच्छी जानकारी है तो आप क्वालिटी पूर्ण कपड़ों को उचित दामों में सोर्स कर पाने में सफल होंगे। और आपकी कोशिश यही होनी चाहिए की कपड़े के प्रति आपकी जानकारी का फायदा सिर्फ आप तक ही सिमित न रह जाय, बल्कि इसका फायदा आपके ग्राहकों को भी होना चाहिए।

ग्राहकों को उचित दामों में अच्छी क्वालिटी का कपड़ा मिलने का मतलब यह है की, वे ग्राहक आपके मार्केटिंग स्टाफ के तौर पर काम करेंगे। और एक नहीं बल्कि कई ग्राहकों को आपके कपड़े की दुकान तक लेकर आएँगे।     

यह भी पढ़ें     

error: Content is protected !!