फेरीवाला बिजनेस : चलती फिरती दुकान का बिजनेस कैसे शुरू करें।

क्या आपने कभी चलती फिरती दुकान से कुछ खरीदारी की है। जैसे जैसे लोगों की जीवनशैली में बदलाव हो रहा है, उसके आधार पर ही बिजनेस करने के तरीकों में भी बदलाव हो रहा है। यदि आप एक दुकानदार हैं तो जराँ सोचिये की जब कभी आपकी दुकान में ग्राहकों का अभाव होता है। तो क्या आपके दिमाग में किसी दूसरी अच्छी जगह में दुकान खोलने का विचार आता है।

जी हाँ ऐसे विचार आना स्वाभाविक है, लेकिन अगर पहले से ही एक दुकान अच्छी नहीं चल रही हो, तो किसी नई जगह पर फिर से दुकान खोलना कहाँ की अक्लमंदी है? कितना अच्छा होता यदि आप अपनी उस मौजूदा दुकान को कहीं किसी चलने वाली जगह पर शिफ्ट कर देते, और जब उस लोकेशन पर भी आपकी दुकान न चलती, तो आसानी से वह जगह भी बदल देते।

कहने का आशय यह है की दुकान चाहे किसी भी प्रकार की क्यों न हो, लेकिन उसको सफल बनाने और असफल बनाने में उसकी लोकेशन का अहम् योगदान होता है। बिजनेस की प्रकृति के हिसाब से अलग अलग बिजनेस के लिए अलग अलग लोकेशन आदर्श मानी जाती हैं।

एक ऐसा एरिया जहाँ शिक्षण संस्थानों की भरमार हो, में स्टेशनरी की दुकान चलाना आसान हो सकता है। ठीक उसी प्रकार एक प्रसिद्ध हॉस्पिटल के नज़दीक मेडिकल स्टोर चलाना आसान हो सकता है, इत्यादि।

चलती फिरती दुकान

लेकिन जब हम बात एक चलती फिरती की दुकान की कर रहे होते हैं, तो हमें इस बात की चिंता नहीं रहती, की उस लोकेशन पर मेरी दुकान चलेगी या नहीं। क्योंकि यदि किसी खास लोकेशन पर दुकान नहीं भी चली तो आप अपनी दुकान को किसी अन्य लोकेशन की तरफ आसानी से शिफ्ट कर सकते है। इसके इसी गुण के चलते वर्तमान में चलती फिरती दुकानों का चलन बढ़ता जा रहा है। इसलिए आज हम हमारे इस लेख में इसी विषय पर बात कर रहे हैं ।

चलती फिरती दुकान होती क्या है?

Feriwala Business kya hai: एक ऐसी दुकान जिसे आप आसानी से एक स्थान से दुसरे स्थान की ओर स्थान परिवर्तन कर सकते हो को चलती फिरती दुकान कहते हैं। अब यदि आपने ईट सीमेंट से बने किसी बिल्डिंग में कोई दुकान किराये पर ली तो उसका स्थान परिवर्तन तो नहीं किया जा सकता है। तो सवाल यह उठता है की इस प्रकार की दुकानों का निर्माण कैसे किया जाता है।

आपको बता देना चाहेंगे की चलती फिरती दुकान को बनाने के लिए किसी वाहन यह मोटरसाइकिल से लेकर बड़े ट्रक तक कुछ भी हो सकती है। एक ऐसी रेहड़ी जिस पर पहिये लगे हों, और उसे आसानी से स्थान परिवर्तन किया जा सके वह भी चलती फिरती दुकान की श्रेणी में ही आती है।

लेकिन आम तौर पर इस तरह का बिजनेस करने के लिए लोग किसी मोटरसाइकिल, वैन, टेम्पो ट्रेवलर, मिनी ट्रक इत्यादि को कस्टमाइज करके करते हैं। इसमें वाहन को इस तरह से कस्टमाइज किया जाता है की उसमें दुकान के सामान को अच्छे ढंग से रखा जा सके, और सड़क सुरक्षा नियमों का भी उल्लंघन न हो। इसलिए स्पष्ट है की, पहियों का इस्तेमाल करके बनायीं जाने वाली दुकानों को ही चलती फिरती दुकान कहा जाता है।

चलती फिरती दुकान खोलने के फायदे

  • मासिक किराया देने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • एक लोकेशन से दूसरी लोकेशन में स्थानान्तरण आसानी से किया जा सकता है।
  • किसी पुराने वाहन को कस्टमाइज करके भी चलती फिरती दुकान का ढांचा तैयार किया जा सकता है।
  • ग्राहक के आने का इंतजार नहीं करना होता, बल्कि खुद ही ग्राहक के पास पहुंचना होता है।  

चलती फिरती दुकान खोलने के नुकसान

  • कहीं कहीं पर जैसे साप्ताहिक बाज़ारों के अन्दर दुकान लगाने पर दैनिक किराया देने की आवश्यकता हो सकती है।
  • ग्राहक आप पर विश्वास कम कर रहे होते हैं, क्योंकि ईट सीमेंट से बनी दुकान के लिए कहा जाता है की वह वही रहेगी। बल्कि चलती फिरती दुकान आज यहाँ, तो कल कहाँ।
  • सामान को उचित ढंग से रखने के लिए वाहन को कस्टमाइज करते समय कुछ ट्रैफिक और सड़क सुरक्षा से जुड़े नियमों का उल्लंघन हो सकता है।
  • ग्राहकों से मजबूत व्यवसायिक रिश्ता बनाने में बाधा आती है।

खुद की चलती फिरती दुकान कैसे खोलें

Feriwala Business kaise Shuru kare: जैसा की हमने बताया की चलती फिरती दुकान खोलने के लिए आपको सबसे पहले एक वाहन वह कोई मोटरसाइकिल से लेकर ट्रक तक कुछ भी हो सकता है। चाहिए होता है। लेकिन जब आप इस वाहन को इस तरह से कस्टमाइज कर रहे होते हैं की, आप इसमें सामान रख भी सकें, और उसे आसानी से बेच भी सकें। तो आपको सड़क सुरक्षा और ट्रैफिक से जुड़े नियमों का भी ध्यान रखना होता है। खुद की चलती फिरती दुकान शुरू करने के लिए आप निम्नलिखित कदम उठा सकते हैं।

तय करें की किस वस्तु की दुकान खोलना चाहते हैं

खुद की चलती फिरती दुकान खोलने के लिए आपको सबसे पहले यह तय करना होगा की आप अपनी उस दुकान में लोगों को क्या बेचने वाले हैं। क्या आप कपड़े बेचने वाले हैं? जूते चप्पल बेचने वाले हैं? खान बेचने वाले हैं? कॉस्मेटिक उत्पाद बेचने वाले हैं? जनरल स्टोर का सामान बेचने वाले हैं? सब्जी या फल बेचने वाले हैं? या और कुछ।

क्योंकि जब तक आप इस बात को तय नहीं करेंगे की, आप अपनी चलती फिरती दुकान के माध्यम से लोगों को क्या बेचना चाहते हैं? तब तक आप वाहन का चुनाव और उसे कस्टमाइज नहीं कर पाएंगे। इसलिए सबसे पहले आपको उस वस्तु का चुनाव करना होगा, जिसे आप अपनी दुकान के माध्यम से ग्राहकों को बेचना चाहते हैं।   

वाहन को कस्टमाइज करें

उसके बाद जब आप वस्तु का चयन कर लेते हैं, तो आप यह भी निर्णय ले पाते हैं की आपके बिजनेस के लिए किस प्रकार के वाहन को कस्टमाइज करना आदर्श होगा। क्योंकि यदि आप चलते फिरते खाना बेचने का बिजनेस करने की सोच रहे हैं, तो आप इसे बाइक इत्यादि को कस्टमाइज करके नहीं कर सकते। इसके लिए आपको ट्रक या किसी बड़े वाहन की आवश्यकता होगी।

जबकि कपड़ों, कॉस्मेटिक, जूते चप्पल इत्यादि बेचने के लिए आप छोटे वाहन जैसे बाइक इत्यादि को भी कस्टमाइज कर सकते हैं। वाहनों को कस्टमाइज और वेल्डिंग करने वाले वर्कशॉप हर स्थानीय बाज़ार में आसानी से उपलब्ध हैं। इसलिए इस तरह का यह काम कराना बिलकुल भी परेशानी देने वाला नहीं है।       

सप्लायर का चयन करें

अब जब आपने अपनी चलती फिरती दुकान का ढाँचा तैयार कर लिया हो, तो अब आपका अगला कदम सप्लायर का चयन करने का होना चाहिए। सप्लायर का चयन करने के बाद आपको उसकी दुकान पर रोज या दुसरे तीसरे दिन सामान खरीदने जाना पड़ सकता है। इसलिए किसी ऐसे सप्लायर का चुनाव करें, जिसकी दुकान आपके बिजनेस एरिया के आस पास ही स्थित हो।

आप चाहें तो अलग अलग तरह का सामान लेने के लिए अलग अलग थोक विक्रेताओं से संपर्क कर सकते हैं। कुल मिलाकर देखें तो आपको सस्ते दामों में अच्छी गुणवत्तायुक्त वस्तु खरीदने की कोशिश करनी चाहिए, और उसका पूरा लाभ अपने ग्राहकों को देने की कोशिश करनी चाहिए। ताकि ग्राहक उनके एरिया में पहुँचने का आपका इंतजार करें।         

खास जगहों का चुनाव करें

बिजनेस के शुरूआती दौर में आपको कुछ खास जगहों चाहें तो दिनों के आधार पर भी दुकान लगाने के लिए जगहों का चयन कर सकते हैं। आपको यह बात अच्छी तरह से पता होनी चाहिए की जिस वस्तु को आप बेच रहे हैं, उसकी टारगेट कस्टमर कहाँ रहते हैं। ताकि आप उसी एरिया में अपनी चलती फिरती दुकान लगा सकें।  

साप्ताहिक बाज़ारों में भी आप अपनी दुकान को लगा सकते हैं, क्योंकि अक्सर देखा गया है की लोग साप्ताहिक बाज़ारों में ज्यादा खरीदारी करते हैं। क्योंकि उन्हें लगता है की इन बाज़ारों में चीजें आम दुकानों की तुलना में सस्ती मिलती हैं।    

उत्पादों को बेचें और कमाएँ

ग्राहक के साथ उदारता, नम्रता से पेश आएँ, यह न सोचें की आपने आज यहाँ तो कल किसी और जगह पर अपनी दुकान लगानी है । बल्कि यह सोचें की भले ही आपकी चलती फिरती दुकान हो, लेकिन बार बार आपको जगह बदलने की आवश्यकता न हो। यह तब संभव है, जब आपके ग्राहक आपके द्वारा बेचे जाने वाले उत्पाद और आपके व्यवहार से संतुष्ट हों।

क्योंकि यदि किसी एक ही जगह में उपलब्ध आपके मौजूदा ग्राहक आपसे संतुष्ट होंगें, तो वे बार बार खरीदारी के लिए आपके पास ही आएंगे । और ऐसे में जब आपकी चीजें बिकेंगी, तो भला आप क्यों जगह बदलना चाहेंगे।   

यह भी पढ़ें  

error: Content is protected !!