Retail Business क्या है? और भारत में रिटेल बिजनेस कैसे शुरू करें।

खुदरा व्यापार सबसे अधिक प्रचलित और लोकप्रिय होते हैं, क्योंकि Retail Business के माध्यम से ही वस्तुएँ या सेवाएँ अंतिम उपभोक्ता तक पहुँचती हैं । गली मोहल्लों में स्थित परचून की दुकान, जूते चप्पल की दुकान, कपड़ों की दुकान, खिलौनों एवं गिफ्ट की दुकान सभी Retail Business के ही उदाहरण हैं। लेकिन बहुत सारे लोग इस बारे में काफी संशय में रहते हैं की खुदरा व्यापार कहते किसे हैं। खैर इसके बारे में भी हम इस लेख के माध्यम से बात करेंगे।

जब भी कोई व्यक्ति उद्यमी बनने की ओर कदम रखने की सोचता है और वह भी एक ऐसा व्यक्ति जिसके पास बिजनेस शुरू करने के लिए बहुत अधिक पैसे नहीं है। तो वह Retail Business शुरू करने के बारे में ही सोचता है। यही कारण है की खुदरा व्यापार मौजूदा उद्यमियों और संभावित उद्यमियों के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

Retail business kya hai

रिटेल बिजनेस क्या है?

Retail Business का हिन्दी में अर्थ खुदरा व्यापार होता है। एक व्यक्ति जब वस्तुओं को अंतिम उपभोक्ता को बेच रहा होता है तो इसे खुदरा व्यापार कह सकते हैं । कहने का आशय यह है की कोई उपभोक्ता जिस स्टोर या दुकान से अपने उपभोग के लिए वस्तुएँ खरीदता है उसे एक रिटेल स्टोर कहा जा सकता है। यानिकी आपके गली मोहल्ले में स्थित परचून की दुकान, हार्डवेयर की दुकान, कॉस्मेटिक की दुकान जहाँ से आप अपने उपभोग के लिए वस्तुएँ खरीदते हैं, सभी Retail Business के उदाहरण हैं।

Top retail Business Ideas in Hindi    

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की किसी भी उद्यमी की पहली पसंद रिटेल इंडस्ट्री ही होती है। वह इसलिए क्योंकि यह उद्यमी को कम पूँजी से भी बिजनेस करने की आज़ादी देती है । हालांकि निवेश के हिसाब से Retail Business को भी प्रमुख तीन भागों कम निवेश के साथ शुरू किये जाने वाले बिजनेस, माध्यम पूँजी के साथ शुरू किये जाने वाले और उच्च निवेश के साथ शुरू किये जाने वाले व्यापारों में विभाजित किया जा सकता है।

लेकिन यहाँ पर हम केवल कुछ ऐसे Retail Business ideas के बारे में बात करने वाले हैं, जिन्हें कम निवेश के साथ भी शुरू किया जा सकता है।

1. चाय का स्टाल

भारत में चाय कितना लोकप्रिय पेय है यह शायद बताने की आवश्यकता नहीं है। भारतीय संस्कृति में घर आये मेहमान की खातिरदारी चाय से ही की जाती है। यही कारण है की घर के बाहर भी लोग बिना चाय पिए नहीं रह सकते। यदि आप किसी भीड़ भाड़ वाले इलाके, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, टैक्सी स्टैंड, शिक्षण संस्थानों के परिसर या फैक्ट्री ऑफिस इत्यादि एरिया में चाय का स्टाल लगाते हैं। तो यह Retail Business आपकी अच्छी खासी कमाई कर पाने में सक्षम है।     

2. स्टेशनरी और बुक स्टोर

वर्तमान में लोग अपने बच्चों को गुणवत्तायुक्त पढाई देने के लिए सबसे उत्साहित एवं जागरूक रहते हैं। और इसके लिए वे बच्चों की पढाई से सम्बंधित किसी भी चीज पर कोई समझौता नहीं करना चाहते।

जहाँ बात कॉपी किताब की हो, तो ये तो हर किसी विद्यार्थी को अनिवार्य रूप से चाहिए ही होते हैं। स्टेशनरी और बुक स्टोर का व्यवसाय भी कम पूँजी के साथ आसानी से शुरू किया जा सकता है। लेकिन इस Retail Business को सफल बनाने के लिए आपको नजदीकी स्कूलों से टाई अप करने की आवश्यकता होती है।       

3. फल और सब्जियों का स्टाल

आपके घर से भी कोई न कोई रोज नियमित रूप से फल और सब्जियाँ खरीदने स्थानीय बाज़ार में जाता ही होगा। ऐसा ही नियम लगभग सभी घरों का होता है की उन्हें फलों और सब्जी खरीदने रोज स्थानीय बाज़ार में जाना पड़ता है। कहने का आशय यह है की यह Retail Business लोगों की रोजमर्रा की जिन्दगी से जुड़ा हुआ बिजनेस है।

इसलिए इसके लिए ग्राहकों की कोई कमी नहीं है, आप किसी प्रसिद्ध स्थानीय मार्किट में स्टाल किराये पर लेकर भी सब्जी और फलों को बेचने का व्यापार कर सकते हैं।  

4. जूस पार्लर

वैसे तो किसी भीड़ भाड़ वाली जगह में एक जूस पार्लर सिर्फ गर्मियों में ही नहीं बल्कि साल के बारह महीने आसानी से चल जाता है। लेकिन भीड़ भाड़ वाला इलाका होने के साथ साथ किसी प्रसिद्ध हॉस्पिटल के आगे जूस पार्लर खोलने की जगह मिल गई, तो समझ लीजिये की आप इस Retails Business से न सिर्फ अपनी जरूरतें बल्कि सपने भी पूरा कर पाने में सक्षम होंगे।

5. फ़ास्ट फ़ूड स्टाल

लोगों की बदलती जीवनशैली के साथ साथ उनकी खाने की आदतों में भी काफी बदलाव आ रहा है। और इसमें कोई दो राय नहीं की किशोरों और नव जवानों के बीच फ़ास्ट फ़ूड काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसलिए भले ही आप किसी भी छोटे बड़े शहर में रहते हैं, यदि खुद का अपना Retail Business शुरू करना चाहते हैं, तो फ़ास्ट फ़ूड स्टाल लगा सकते हैं। इस तरह का यह स्टाल शुरू करने के लिए भी उद्यमी को बहुत अधिक खर्चा करने की आवश्यकता नहीं होती है।   

6. फूलों की दुकान

हर सुख दुःख में फूलों की आवश्यकता तो होती ही है, इसके अलावा लोग एक दुसरे को मिलने के लिए गुलदस्ते भी भेंट स्वरूप प्रदान करते हैं। कहने का आशय यह है की बदलते समय के साथ फूलों के उपयोग भी काफी बढ़ गए हैं। इसलिए यदि आप कोई कम पैसे से शुरू होने वाले Retail Business के बारे में सोच रहे हैं तो आप फूलों की दुकान का व्यापार पर भी विचार कर सकते हैं।  

7. मेडिकल स्टोर

कहते हैं की जीवन में सुख दुःख लगे रहते हैं, हालांकि दुःख के कई प्रकार हो सकते हैं। लेकिन मेडिकल स्टोर की आवश्यकता लोगों को तब पड़ती है जब उन्हें कोई शारीरिक दुःख होता है। भले ही मनुष्य ने अनेकों बीमारियों पर विजय प्राप्त कर ली हो, लेकिन मनुष्य जीवन में कब किसको कौन सी बीमारी हो जाय, शायद कोई नहीं जानता। इसलिए यदि आप एक रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट हैं तो आप Retail business के तौर पर खुद का मेडिकल स्टोर भी खोल सकते हैं ।   

8. ब्यूटी सैलून

आप एक औरत हैं तो औरतों के लिए ब्यूटी सैलून और पुरुष हैं तो पुरुषों के लिए ब्यूटी सैलून खोल सकते हैं। वर्तमान में मनुष्य अपनी शारीरिक स्वच्छता और सुन्दरता के प्रति काफी जागरूक हो गया है।  यही कारण है की उसे हर महीने या पंद्रह दिन के अन्तराल में ब्यूटी सैलून जाने की आवश्यकता पड़ जाती है।

कभी बाल कटवाने, कभी दाढ़ी बनवाने, मसाज करवाने वहीँ औरतों को फेसिअल कराने, मेकअप कराने, आइब्रो बनाने, पेडीक्योर, मेनिक्योर इत्यादि कामों के लिए ब्यूटी सैलून जाने की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए यह Retail Business भी काफी लाभकारी हो सकता है।       

9. जूते चप्पल की दुकान

जूते चप्पल मनुष्य द्वारा इस्तेमाल में लायी जाने वाली ऐसी वस्तुएँ हैं, जिन्हें एक व्यक्ति एक समय में एक जोड़े से अधिक अपने पास रखता है। कहने का मतलब यह है की जिनके पास जूते चप्पल मौजूद हैं, वे जूते चप्पल नहीं खरीदेंगे ऐसा नहीं कहा जा सकता। वर्तमान में मनुष्य अधिक फैशनेबल होने के कारण कपड़ों के रंग के आधार पर ही जूते पहनना भी पसंद करता है। इसलिए इस Retail Business को किसी भी गली मोहल्ले या स्थानीय बाज़ार में आसानी से शुरू किया जा सकता है।    

10. कपड़े की दुकान

मनुष्य की अत्यंत आवश्यकताओं में रोटी, कपड़ा और मकान शामिल है । कहने का अभिप्राय है की मनुष्य के लिए कपड़े बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। हाँ यह अलग बात है की अलग अलग आर्थिक वर्ग के लोग अलग अलग श्रेणी के कपड़े खरीदते हैं, लेकिन कपड़े खरीदते जरुर हैं।

इसलिए इस तरह का यह Retail Business शुरू करने से पहले उद्यमी को चाहिए की वह जहाँ पर यह दुकान शुरू करना चाहता है, वहाँ पर किस आर्थिक वर्ग के लोगों की अधिकता है इस पर रिसर्च अवश्य करे। ताकि उसी हिसाब से वह अपनी दुकान में माल भर सके।

रिटेल बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start a Retail Business): 

थोक व्यापार की तुलना में खुदरा व्यापार यानिकी Retail Business का आकार छोटा होता है, इसलिए इसे बेहद कम निवेश के साथ भी शुरू किया जा सकता है। लेकिन सभी खुदरा व्यापार ऐसे नहीं होते जिन्हें बेहद कम निवेश के साथ शुरू किया जा सके। इसलिए रिटेल बिजनेस शुरू करने में लगने वाली लागत इस बात पर निर्भर करती है की उद्यमी किस प्रकार का और किस स्तर पर रिटेल व्यापार शुरू करना चाहता है।

1. रिटेल बिजनेस का चुनाव करें

यदि आप खुद का Retail Business शुरू करने के बारे में विचार कर रहे हैं, तो इस विचार को जमीन पर उतारने के लिए जो सबसे पहला कदम उठाने की आवश्यकता आपको होती है। वह यह है की सबसे पहले आपको सैकड़ों खुदरा व्यापारों में से कोई एक व्यापार अपने लिए चुनना होता है। ध्यान रहे जब आप Retail Business का चुनाव कर रहे हों, तो ऐसे व्यवसाय का चुनाव करें जिससे आपकी पृष्ठभूमि मेल खाती हो।

उदाहरण के लिए यदि आपने पहले किसी होटल या खाद्य स्टाल में काम किया हो तो आप फ़ास्ट फ़ूड स्टाल एवं अन्य खाद्य स्टाल शुरू करने पर विचार कर सकते हैं। आपकी पृष्ठभूमि और अनुभव के आधार पर व्यापार का चुनाव उस व्यापार में आपकी सफलता के प्रतिशत को बढ़ा देता है।

2. स्थानीय रिसर्च करें

अब जब आपके द्वारा Retail Business का चुनाव कर लिया जाता है, तो उसके बाद आपको जिस एरिया में आप खुद का रिटेल बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं, वहाँ पर रिसर्च करने की आवश्यकता होती है। इस रिसर्च में उस एरिया विशेष में पहले से चल रही ऐसी दुकाने जिसका बिजनेस आप करना चाहते हैं का आकलन करना।

ग्राहक उनके प्रति क्या राय रखते हैं? क्या वे अपने ग्राहकों को संतुष्ट रखने में कामयाब हो पा रहे हैं। क्योंकि संतुष्ट ग्राहकों को उस दुकान से विमुख करना काफी कठिन काम हो सकता है। इसके अलावा आपको अपने आप से प्रश्न पूछना है की आप ग्राहकों को ऐसा क्या देने वाले हैं, जो मौजूदा दुकानदार नहीं दे पा रहे हैं।

इन सबके अलावा आपको अपने संभावित ग्राहकों को जानने की आवश्यकता भी होती है, की आपके संभावित ग्राहक कौन हो सकते हैं। और उन संभावित ग्राहकों को ग्राहक में बदलने के लिए आप क्या करने वाले हैं। जब आप एक अच्छी रिसर्च करके अपना Retail Business शुरू करते हैं तो उसके सफल होने की उम्मीद बढ़ जाती है ।      

3. आवश्यक जगह का प्रबंध करें

यद्यपि अधिकतर Retail Business शुरू करने के लिए बहुत अधिक जगह की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन फिर भी किस खुदरा व्यापार के लिए कितनी जगह की आवश्यकता होगी, यह उसकी प्रकृति पर निर्भर करेगा। जैसे एक कपड़े की दुकान को आप छोटी सी दुकान किराये पर लेकर भी शुरू कर सकते हैं।

लेकिन जब हार्डवेयर की दुकान की बात आती है, तो इसके लिए तुलनात्मक रूप से बड़ी दुकान की आवश्यकता होती है, क्योंकि टंकी, पाइप इत्यादि को रखने के लिए बड़ी जगह चाहिए होती है।

कहने का आशय यह है की आपके Retail business के लिए कितनी जगह की आवश्यकता होगी, इस बात को आपसे बेहतर और कोई नहीं जान सकता। जगह का प्रबंध जहाँ पर भी करें वहाँ पर सड़क, बिजली और पानी जैसी बुनियादी सुविधाएँ होनी आवश्यक हैं। और बिजनेस की प्रकृति के आधार पर मेल खाती हुई लोकेशन भी अत्यंत आवश्यक है।       

4. जरुरी लाइसेंस रजिस्ट्रेशन प्राप्त करें

वैसे आम तौर पर देखा जाय तो छोटे Retail Business जैसे परचून की दुकान, कपड़े की दुकान, फ़ास्ट फ़ूड का ठेला, जूस कार्नर इत्यादि खोलने के लिए किसी प्रकार के लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता नहीं होती है। लेकिन कई एरिया ऐसे होते हैं जहाँ पर हर छोटे बड़े एस्टाब्लिश्मेंट को लोकल अथॉरिटी जैसे नगर निगम, नगर पालिका इत्यादि में रजिस्ट्रेशन कराना होता है। आम तौर पर इस लाइसेंस को शॉप्स एंड एस्टाब्लिश्मेंट एक्ट के तहत प्रदान किया जाता है।

खुद का Retail Business शुरू करने के लिए भले ही किसी लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन की अनिवार्यता नहीं हो, लेकिन इसके बावजूद भी आप जहाँ पर बिजनेस शुरू कर रहे हैं। वहाँ के स्थानीय नियम कानूनों की जानकारी अवश्य लें, ताकि बाद में आपके बिजनेस में कोई बाधा पैदा न हो।    

5. सप्लायर और विक्रेता ढूंढें

जो वस्तु आप अपनी दुकान के माध्यम से अंतिम ग्राहक को बेचना चाहते हैं, अब आपको उसके लिए सप्लायर या विक्रेता ढूंढना होगा। यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की, जब आप दुकान खोल लेते हैं तो उसके बाद आप काफी व्यस्त हो जाते हैं, और आपको समय निकालना मुश्किल हो सकता है। इसलिए हो सकता है की बार बार आप अपने Retail Business के लिए सामान खरीदने बाज़ार या विक्रेता के पास नहीं जा पाएँ।

ऐसे में आपको एक ऐसा सप्लायर ढूँढने की आवश्यकता होती है, जो आपकी दुकान तक चीजों को डिलीवर करने में सक्षम हो। वैसे आज के समय में अधिकतर दुकानदार सप्लायर के माध्यम से कोई भी सामान अपनी दुकान तक आसानी से मँगा लेते हैं। इसके लिए आप ऑनलाइन प्लेटफार्म और उस एरिया में पहले से मौजूद दुकानदारों की मदद ले सकते हैं।       

6. संचालन शुरू करें

जब आपके रिटेल स्टोर पर सप्लायर द्वारा आर्डर किया हुआ माल भेज दिया जाता है, तो उसके बाद आपको उस सामान को अपनी दुकान में अपनी सहूलियत के हिसाब से रखना होता है। ताकि जब भी कोई ग्राहक कोई सामान माँगे तो आप बहुत अधिक समय लगाये बिना उसे जल्दी से सामान दे कर विदा कर सकें। आम तौर पर Retail Business वहाँ पर रह रहे लोगों को टारगेट करके ही किये जाते हैं, इसलिए उनके ग्राहक भी वही स्थानीय लोग ही होते हैं।

लेकिन किसी टूरिस्ट डेस्टिनेशन या कोई ऐसी जगह जहाँ पर दूर दूर से लोग आते रहते हैं। वहाँ पर Retails Business शुरू करने पर आपके टारगेट ग्राहक के तौर पर अलग अलग शहरों, नगरों के लोग हो सकते हैं। ऐसे व्यवसाय को और अधिक बढ़ाने के लिए आप चाहें तो गूगल एड, फेसबुक एड एवं कुछ फ्री टूल्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।   

अन्य लेख भी पढ़ें  

भारत में खुद की कंपनी कैसे शुरू करें.

एडवरटाइजिंग एजेंसी कैसे शुरू करें.      

error: Content is protected !!