नेल पॉलिश बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? Nail Polish Manufacturing Business.

Nail Polish की यदि हम बात करें तो महिलाओं के सजावटी सामान में यह सबसे आम आइटम है, इसे नेल वार्निश या नेल इनेमल के नाम से भी जाना जाता है । इसे एक प्रकार का लाह भी कह सकते हैं, जिसका इस्तेमाल महिलाओं द्वारा अपनी हाथ और पैरों के अँगुलियों के नाखूनों को सजाने एवं उनकी सुरक्षा की दृष्टी से किया जाता है। इसके सजावटी प्रभाव को बढाने के लिए Nail Polish विनिर्माणकर्ताओं द्वारा इसके फार्मूलेशन को बार बार संसाधित किया जाता है ।

यद्यपि अलग अलग ब्रांड द्वारा इसे अलग अलग गुणवत्ता के साथ बनाया जाता है, लेकिन आम तौर पर इसे कार्बनिक बहुलक और कई अन्य घटकों के मिश्रण से बनाया जाता है। नाख़ून पॉलिश का इस्तेमाल लगभग सभी आय वर्ग की महिलाओं द्वारा किया जाता है, इसलिए कमाई की दृष्टी से यह व्यवसाय भी एक बेहद लाभकारी व्यवसाय हो सकता है। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से नेल पॉलिश बनाने के व्यवसाय के बारे में जानने का प्रयत्न कर रहे हैं।

Nail Polish Manufacturing business in Hindi

नेल पॉलिश के प्रकार (Types of Nail Polish ):

Nail Polish के कुछ प्रमुख प्रकार निम्नवत हैं ।  

1. बेस कोट (Base Coat):

इस प्रकार का यह नाख़ून पॉलिश एक स्पष्ट दुधिया रंग का या फिर अपारदर्शी गुलाबी रंग का पॉलिश फार्मूला होता है। जिसे विशेष तौर पर नाखूनों में Nail Polish लगाने से पहले लगाया जाता है। नाखूनों में बेस कोट इस्तेमाल करने का उद्देश्य इन्हें मजबूत बनाना, नाखूनों में नमी को बहाल करना, और नाखूनों में पॉलिश के रंग को अच्छे से दिखाने का होता है।

ताकि नाखूनों पर पॉलिश का रंग धुंधला न रह जाय, और नाखूनों में मैनीक्योर बिना बेस कोट की तुलना में अधिक समय तक रहे। कुछ बेस कोट को बाजार में रिज फिलर्स के तौर पर मार्किट किया जाता है जो नाखूनों में लकीरों इत्यादि की संख्या कम करके उनमें चिकनी सतह स्थापित कर सकते हैं। कुछ बेस कोट जिन्हें पील ऑफ़ बेस कोट कहा जाता है ये बिना रिमूवर के नाखूनों से नेल पॉलिश हटाने में मदद करते हैं।

2. टॉप कोट (Top Coat):

इस प्रकार की इस Nail Polish की यदि हम बात करें तो यह एक स्पष्ट रंगीन पॉलिश फार्मूला है जिसका इस्तेमाल खास तौर पर नाखूनों में नेल पॉलिश लगाने के बाद किया जाता है। यह टॉप कोट नाखूनों के लिए एक मजबूत बैरियर बनाने का काम करता है जो इन्हें छिलने, खरोंचने इत्यादि समस्याओं से बचा सकता है। इस प्रकार के कई टॉप कोट को क्विक ड्राइंग के रूप में मार्किट किया जाता है।

टॉप कोट की मदद से अंतर्निहित रंगीन पॉलिश जल्दी ही सूख जाती है और यह न सिर्फ नाखूनों पर लगी नेल पॉलिश को अच्छा रूप प्रदान करता है, बल्कि लम्बे समय तक नाखूनों में लगे रहने में भी मदद करता है।

3. जैल (Gel):

जैल पॉलिश की यदि हम बात करें तो यह मेथैक्रिलेट पॉलीमर से बनी  Nail Polish की लम्बे समय तक चलने वाली एक किस्म है। इसे नाखूनों पर परम्परागत नेल पॉलिश की तरह ही पेन्ट किया जाता है, लेकिन यह सूखता नहीं है। बल्कि इसे पराबैंगनी दीपक या पराबैंगनी एलईडी के तहत ठीक कर लिया जाता है ।

रेगुलर नेल पॉलिश की यदि हम बात करें तो ये दो से सात दिनों तक ही नाखूनों में बनी रहती है जबकि जैल पॉलिश लगाने के बाद यदि नाखूनों की अच्छी देखभाल की जाय तो यह दो सप्ताह तक नाखूनों पर रह सकती है। इसलिए रेगुलर नाख़ून पॉलिश की तुलना में जैल पॉलिश को नाखूनों से हटाना अधिक कठिन हो सकता है। जैल पॉलिश को नाखूनों से हटाने के लिए नाखूनों को शुद्ध एसीटोन में पांच से पंद्रह मिनट तक भिगोने की आवश्यकता होती है।

4. मैट पॉलिश (Matte) :

मैट पॉलिश की यदि हम बात करें तो यह रेगुलर पॉलिश की तरह ही होते हैं, लेकिन इसका रंग चमकदार नहीं बल्कि सुस्त होता है। इसे विभिन्न रंगों में एक रेगुलर बेस कोट के तौर पर ख़रीदा जा सकता है। टॉप कोट में मैट Nail Polish भी पाया जा सकता है । मैट टॉप कोट का इस्तेमाल ड्राई बेस कलर को एक अलग सी लुक देने के लिए इसके ऊपर पेंट किया जाता है। यह रेगुलर बेस कोट के रंग एवं चमक को सुस्त कर देगा, जब से इसे नेल आर्ट एप्लीकेशन में इस्तेमाल में लाया जाने लगा है तब से यह काफी लोकप्रिय हो गया है।

नेल पॉलिश निर्माण बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Nail Polish Manufacturing):  

यद्यपि Nail Polish Manufacturing में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीनरी एवं उपकरण 2-3 लाख रूपये में आसानी से ख़रीदे जा सकते हैं। लेकिन सच तो यह है की सिर्फ मशीनरी एवं उपकरण खरीदने से यह व्यवसाय शुरू नहीं हो जायेगा, बल्कि यह व्यवसाय शुरू करने के लिए उद्यमी को एक प्रभावी बिजनेस प्लान, जमीन और बिल्डिंग, लाइसेंस और पंजीकरण एवं कर्मचारियों की भी आवश्यकता होगी। तो आगे इस लेख में आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति खुद का नेल पॉलिश बनाने का व्यवसाय शुरू कर सकता है।

1. बिजनेस प्लान (Prepare a Business plan for nail polish Manufacturing)

बिजनेस प्लान को और अधिक साधारण भाषा में व्यापार की योजना भी कह सकते हैं, यह एक लिखित दस्तावेज होता है। जिसमें उद्यमी को अपने Nail Polish Manufacturing Business से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी का उल्लेख करना होता है। इसमें इस व्यवसाय को शुरू करने में आने वाली अनुमानित लागत से लेकर अनुमानित कमाई भी उल्लेखित होती है।

इसके अलावा एक निश्चित समय के बाद उद्यमी अपने व्यापार को कहाँ देखना चाहता है, और वहां तक पहुँचने के लिए उसे क्या क्या करने की आवश्यकता होती है, इन सभी जानकारियों का उल्लेख बिजनेस प्लान में अच्छे से किया जाता है। शायद यही कारण है की इसी बिजनेस प्लान को पढ़कर ही कोई इन्वेस्टर उस विशेष व्यवसाय में इन्वेस्टमेंट के लिए राजी हो पाता है। इसके अलावा बैंक या अन्य वित्तीय संस्थानों से ऋण प्राप्त करने में भी यह मददगार होता है।      

2. जमीन और बिल्डिंग

जहाँ तक जमीन और बिल्डिंग का सवाल है Nail Polish Manufacturing के लिए उद्यमी को लगभग 600-700 Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है। वह इसलिए क्योंकि उद्यमी को कार्यस्थल के अलावा ऑफिस, जनरेटर रूम, भंडार गृह इत्यादि के लिए भी इस जगह को अलग अलग विभाजित करने की आवश्यकता होगी।

यदि उद्यमी की स्वयं की जमीन है तो ठीक है अन्यथा उसे सभी प्रकार की औपचारिकतायें जैसे रेंट एग्रीमेंट, लीज एग्रीमेंट इत्यादि बनवाने की आवश्यकता होती है । और जगह या बिल्डिंग ऐसी जगह पर किराये पर लें, जहाँ बिजली, पानी, सड़कों इत्यादि का उचित प्रबंध हो।  

3. लाइसेंस एवं पंजीकरण (License for Nail Polish Manufacturing)

Nail Polish Manufacturing Business शुरू करने के लिए निम्नलिखित लाइसेंस एवं पंजीकरण की आवश्यकता हो सकती है। 

  • सबसे पहले उद्यमी को अपने व्यवसाय को रजिस्ट्रार ऑफ़ कम्पनीज में रजिस्टर करना होगा उद्यमी चाहे तो शुरूआती दौर में प्रोप्राइटरशिप के तौर पर रजिस्टर कर सकता है।
  • उद्यमी को जीएसटी रजिस्ट्रेशन की भी आवश्यकता होगी।
  • फैक्ट्री या ट्रेड लाइसेंस के लिए स्थानीय प्राधिकरण जैसे नगर निगम, नगर पालिका इत्यादि से संपर्क किया जा सकता है।
  • चूँकि यह एक कॉस्मेटिक उत्पाद है, इसलिए इसके निर्माण के लिए ड्रग एवं कॉस्मेटिक लाइसेंस की भी आवश्यकता होगी।
  • उद्यमी चाहे तो अपने व्यवसाय का उद्योग आधार एवं एमएसएमई डाटा बैंक रजिस्ट्रेशन भी कर सकता है।
  • फायर डिपार्टमेंट से एनओसी एवं ब्रांड के लिए ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन की भी आवश्यकता हो सकती है।      

4. मशीनरी एवं कच्चा माल

Nail Polish बनाने वाली मशीन की यदि हम बात करें तो इनका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के कच्चे माल से, नाख़ून पॉलिश बनाने के लिए किया जाता है। इन मशीनों की मदद से उद्यमी सभी प्रक्रियाएं जैसे मिश्रण, फिलिंग और पैकेजिंग का काम आसानी से कर सकता है। इनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • डाईल्युजर टैंक
  • मिक्सर मशीन
  • फिलर मशीन
  • पैकेजिंग मशीन   

इस व्यवसाय के लिए मशीनरी खरीदने से पहले उद्यमी को विभिन्न सप्लायर से कोटेशन मंगाकर उनका तुलनात्मक विश्लेषण करना चाहिए। और जिस सप्लायर की कोटेशन अच्छी लगे उसका ही चयन करना चाहिए। इस व्यवसाय में प्रयुक्त होने वाली कच्चे माल की लिस्ट में निम्नलिखित चीजें शामिल है।

  • नाईट्रो सेल्यूलोज
  • साल्वेंट
  • रेजिन
  • एंटीऑक्सीडेंट
  • पिगमेंट    

आम तौर पर Nail Polish Manufacturing में Manganese violet आम पिगमेंट के तौर पर इस्तेमाल में लाया जाता है ।  इसके अलावा उद्यमी को तीन चार कर्मचारी भी नियुक्त करने की आवश्यकता हो सकती है ।

5. नेल पॉलिश का निर्माण (Start Nail Polish Manufacturing):

यद्यपि जब से Nail Polish निर्माण का चलन शुरू हुआ है, तब से इसके निर्माण के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल किया गया है। आज उन तरीकों की यदि हम बात करें तो उन्हें शौकिया तरीके के रूप में देखा जाता है। इनमें एक तरीका यह भी था की मूवी फिल्म के क्लीन स्क्रैप और अन्य सेल्यूलोज के साथ एल्कोहल एवं अरंडी के तेल का मिक्सचर बनाया जाता था, और फिर इस मिक्सचर को रात भर किसी ढके हुए कंटेनर में भिगो कर रख दिया जाता था। तब यह मिश्रण रंगीन एवं सुगन्धित हो जाता था।

लेकिन आज जो भी Nail Polish हमें बाज़ारों में दिखाई देती हैं उन्हें बनाने में इस तरीके का इस्तेमाल नहीं किया जाता है। क्योंकि वर्तमान विनिर्माण प्रक्रिया में कुशल श्रमिक, उन्नत मशीनरी एवं रोबोटिक्स का इस्तेमाल किया जाता है। क्योंकि वर्तमान में ग्राहकों की अपेक्षाएं नेल पॉलिश से बदल चुकी हैं उन्हें अच्छी, सुन्दर दिखाने वाली, मजबूत एवं आकर्षक नेल पॉलिश की जरुरत है, तो वहीँ बहुत सारे ग्राहकों को ऐसे पॉलिश की भी आवश्यकता होती है जिसे नाखूनों से आसानी से हटाया जा सके।

इसके अलावा, सुरक्षा की दृष्टी से पॉलिश को डर्माटोलॉजिकल तौर पर भी इसके अनुकूल यानिकी सहज होना चाहिए । Nail Polish Manufacturing Process में नाइट्रोसेल्यूलोज और प्लास्टिसाइज़र के साथ  पिगमेंट को मिलाया जाता है, और फिर इसमें अन्य सामग्री भी डाल दी जाती हैं। और फिर इसे गुणवत्ता नियंत्रण के लिए चेकिंग के लिए भेजा जाता है।      

यह भी पढ़ें

error: Content is protected !!