Softy Ice Cream बनाने का व्यापार कैसे शुरू करें।

Softy Ice Cream की यदि हम बात करें तो इसे सॉफ्ट सर्व के नाम से भी जाना जाता है । यह एक प्रकार की आइसक्रीम है जो नियमित खाई जाने वाली आइस क्रीम से अधिक नरम एवं कम घनी होती है। इस तरह की यह आइस क्रीम व्यवसायिक तौर पर आज़ादी से पहले से यानिकी सन 1930 से बेचीं जा रही है। हालांकि Soft Ice Cream को पहले से पैक करके नहीं बेचा जाता है लेकिन विभिन्न आयोजनों जैसे पारिवारिक एवं व्यवसायिक पार्टियों, शादी, सालगिरह इत्यादि के अलावा मेलों, कार्निवाल, मनोरंजन पार्क, रेस्तरां इत्यादि में ये बड़े पैमाने पर बेचे जाते हैं।

इसलिए इस तरह की यह आइसक्रीम मीठा पसंद करने वालों की पहली पसंद है जिसका इस्तेमाल गर्मियों में न केवल बच्चों द्वारा बल्कि सभी आयु वर्ग के लोगों द्वारा बहुतायत मात्रा में किया जाता है। चूँकि इस तरह की इस आइसक्रीम की मांग गर्मियों में हर जगह बड़े पैमाने पर देखने को मिलती है, इसलिए इसे बनाने का काम भी एक बेहद लाभकारी बिजनेस हो सकता है।

Softy ice cream making business plan hindi

सॉफ्टी आइस क्रीम क्या है (What is Soft Ice Cream ):

इस तरह की यह आइसक्रीम दूध वसा में फ्रोजेन आइसक्रीम से कम होती है, इसमें 3% से 6% तक दूध वसा पाया जाता है तो वहीँ फ्रोजेन आइस क्रीम में 10% से 18% तक दूध वसा पाया जाता है। और सॉफ्टी को आइस क्रीम की तुलना में -4®C तापमान पर उत्पादन किया जाता है जिसे -15®C तापमान पर स्टोर किया जाता है । इस तरह की आइस क्रीम में हवा के कंटेंट होते हैं जिन्हें फ्रीजिंग के समय इंट्रोड्यूस किया जाता है। हवा की मात्रा Softy Ice Cream का स्वाद बदल देती है ।

जिस उत्पाद में हवा की मात्रा कम होती है उसका स्वाद भारी बर्फीला होता है और रंग अधिक पीला होता है। और जिस सॉफ्टी आइसक्रीम में हवा की मात्रा उच्च होती है वह क्रीमी, चिकनी और हल्के स्वाद वाली होती है और इसका रंग भी अधिक सफ़ेद होता है। सॉफ्टी में हवा की मात्रा कितनी होनी चाहिए यह उसे बनाने में इस्तेमाल में लायी गई अन्य सामग्री की मात्रा पर निर्भर करता है। Softy Ice Cream को दूध, आइस क्रीम पाउडर इत्यादि को कच्चे माल के तौर पर इस्तेमाल में लाकर बनाया जाता है और इसे सॉफ्टी कोन में भरकर खाया जाता है।

सॉफ्टी आइस क्रीम के फ्लेवर

Soft Ice Cream के फ्लेवर की बात करें तो इसने वेनिला, स्ट्रॉबेरी और चॉकलेट फ्लेवर के साथ एक लम्बा सफ़र तय किया है। जानकारी के मुताबिक सन 1970 तक , इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ आइसक्रीम निर्माताओं ने 400 से अधिक फ्लेवर को रिकॉर्ड कर लिया था। आइसक्रीम के फ्लेवर में फलों की प्यूरी एवं अर्क का इस्तेमाल किया जाता है इनमें कोको पाउडर, नट्स, कुकी के टुकड़े, और कुकी आटा इत्यादि को आइस क्रीम मिश्रण में मिलाया जाता है। इस तरह की यह आइसक्रीम अनेकों फ्लेवर में आती है इनमें से कुछ प्रमुख फ्लेवर निम्नवत है।

  • वनिला
  • चॉकलेट
  • स्ट्रॉबेरी
  • मैंगो
  • ऑरेंज
  • बटर स्कॉच  

इन सबके अलावा सॉफ्टी आइस क्रीम को विभिन्न राज्यों में अन्य प्रकार के फ्लेवर में भी बनाया जाता है।

मार्किट विश्लेषण

वर्तमान परिदृश्य की यदि हम बात करें तो आइसक्रीम आज भारत के सबसे तेजी से बढ़ते खाद्य क्षेत्रों में से एक है। IMARC द्वारा जारी की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2011 से 2018 के बीच आइसक्रीम मार्किट 16.9% CAGR की दर से आगे बढ़ा। हालांकि इस बाजार में होने वाली स्वस्थ वृद्धि के लिए अनेकों कारणों को जिम्मेदार माना जा सकता है।

इनमें खास तौर पर जनसँख्या में बढ़ोत्तरी, लोगों की बढती डिस्पोजेबल आय, शहरीकरण का विस्तारीकरण, उपभोक्ताओं की प्राथमिकताओं में परिवर्तन इत्यादि कुछ कारण हैं। ये कारक इस बाजार के विकास के पहलुओं को और भी व्यापक बना रहे हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार Softy Ice Cream को मिलाकर भारत में आइस क्रीम बाजार की वर्ष 2019-2024 के दौरान 375.8 बिलियन रूपये तक पहुँचने की उम्मीद है। 

सॉफ्टी आइस क्रीम बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें? (How to Start Softy Ice Cream Manufacturing)

Softy Ice Cream Manufacturing की यदि हम बात करें तो यह एक ऐसा बिजनेस है जिसे मात्र 1-2 लाख रुपयों का निवेश करके आसानी से शुरू किया जा सकता है। इसलिए इस व्यवसाय को भी बेहद कम निवेश के साथ शुरू किया जाने वाला व्यवसाय कह सकते हैं। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति खुद का यह बिजनेस कैसे शुरू कर सकता है।

1. स्थानीय रिसर्च करें

यद्यपि इसमें कोई दो राय नहीं की Softy Ice cream का इस्तेमाल हर आयु एवं आय वर्ग के लोगों द्वारा किया जाता है। इसलिए ऐसा नहीं है की सिर्फ शहरी या नगरी इलाकों में रहने वाले लोग ही इसका इस्तेमाल करते हों, बल्कि ग्रामीण इलाकों में भी इसका उपयोग किया जाता है। लेकिन इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने से पहले उद्यमी को स्थानीय स्तर पर रिसर्च करने की आवश्यकता बहुत सारी बातों का पता करने के लिए जरुरी होती है।

इस रिसर्च में उद्यमी को यह पता करने की कोशिश करनी चाहिए की क्या उस क्षेत्र विशेष में इस व्यवसाय में कोई प्रतिस्पर्धा है या नहीं, कहीं उस एरिया विशेष में पहले से कोई उद्यमी इस तरह का यह व्यवसाय तो नहीं कर रहा है। और यदि कर भी रहा है तो क्या वह उस क्षेत्र विशेष में उत्पन्न होने वाली सॉफ्टी सम्बन्धी मांग की आपूर्ति कर पाने में सक्षम है।      

2. जगह का प्रबंध करें (Land & Building for Softy Ice Cream Business):

Softy Ice Cream Manufacturing बिजनेस शुरू करने के लिए बहुत अधिक जगह की आवश्यकता नहीं होती बल्कि उद्यमी चाहे तो इसे एक बड़े से कमरे से भी आसानी से शुरू कर सकता है। कहने का आशय यह है की इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने के लिए केवल 150-200 Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है ।

उद्यमी इस बिजनेस को शुरू करने के लिए स्थानीय बाजार या उसके तीन चार किलोमीटर के रेडियस में कहीं भी जगह या कमरा किराये पर लेकर इस तरह का यह बिजनेस शुरू कर सकता है। लेकिन उद्यमी को कमरा या बिल्डिंग किराये पर लेते वक्त रेंट एग्रीमेंट इत्यादि अवश्य बनवा लेना चाहिए। ताकि उद्यमी जरुरत पड़ने पर इसे पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में ला सके।    

3. लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

वैसे देखा जाय तोSofty Ice Cream बनाने के बिजनेस के लिए किसी लाइसेंस एवं पंजीकरण की अनिवार्यता तो नहीं है। लेकिन उद्यमी को अपने व्यापार को प्रोप्राइटरशिप के तौर पर रजिस्टर अवश्य करवा लेना चाहिए।

और उद्यमी को जीएसटी रजिस्ट्रेशन भी करा लेना चाहिए, यदि उद्यमी चाहे तो अपने व्यवसाय के नाम से चालू खाता भी बैंक में ओपन करा सकता है। और चूँकि यह खाद्य से जुड़ा हुआ बिजनेस है इसलिए उद्यमी को फ़ूड लाइसेंस के बारे में भी अवश्य पता कर लेना चाहिए। इन सबके अलावा उद्यमी की यदि इच्छा हो तो वह उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन एवं एमएसएमई डाटा बैंक रजिस्ट्रेशन भी कर सकता है।     

4. मशीनरी एवं कच्चा माल

Softy Ice Cream मशीन की यदि हम बात करें तो इनका इस्तेमाल दूध और आइस क्रीम पाउडर से सॉफ्टीबनाने के लिए किया जाता है। क्योंकि आइस क्रीम को क्रिस्टलीकरण  से बचाने के लिए जल्दी से जमाने की आवश्यकता होती है। जहाँ तक सॉफ्टी की बात है बिक्री पॉइंट पर इसे एक विशेष मशीन के माध्यम से पूरा किया जाता है।

इस प्रक्रिया में पहले से मिलाये हुए मिश्रण को मशीन के स्टोरिंग चैम्बर में डालना होता है जब उत्पाद को ड्रा वाल्व से खींचा जाता है तो फ्रीजिंग चैम्बर में ग्रेविटी या पंप द्वारा निर्धारित मात्रा में हवा इंट्रोड्यूस की जाती है। फिर इसका मंथन करके इसे आवश्यक समय तक स्टोर किया जाता है हालांकि कुछ मशीनें एक समय में केवल एक ही फ्लेवर डिस्पेंस करती हैं कुछ मशीन में एक अतिरिक्त नोजल लगी रहती है जो दो अलग अलग फ्लेवर को एक ही समय में डिस्पेंस करता है।

Softy Ice Cream दो प्रकार के मशीनों से तैयार की जाती है इसमें टेबल टॉप मॉडल मशीन एवं फ्लोर मॉडल सॉफ्टी मशीन शामिल हैं। इनकी कीमतें इनकी क्षमता के आधार पर अलग अलग हो सकती हैं लेकिन एक 25 लीटर क्षमता वाली टेबल टॉप मॉडल सॉफ्टी मशीन की कीमत 90-95000 रूपये और 30 लीटर क्षमता वाली फ्लोर मॉडल सॉफ्टी मशीन की कीमत 1 लाख 20 हज़ार रूपये तक हो सकती है।

जहाँ तक कच्चे माल का सवाल है सॉफ्टी आइस क्रीम बनाने के लिए उद्यमी को दूध एवं आइस क्रीम पाउडर की आवश्यकता होती है जो अलग अलग फ्लेवर में बाजार में उपलब्ध है। इनके अलावा उद्यमी को बाजार से आइस क्रीम कोन भी खरीदने की आवश्यकता हो सकती है । 

5. सॉफ्टी आइस क्रीम निर्माण (Start Manufacturing of Softy Ice Cream):

Softy Ice Cream बनाने के लिए सबसे पहले कच्चे माल दूध एवं आइस क्रीम पाउडर को मिला दिया जाता है और फिर इस मिश्रण को अच्छे ढंग से मिलाया जाता है अर्थात ब्लेंड किया जाता है। उसके बाद इस मिश्रण को मशीन के होपर में डडाला जाता है।

उसके बाद इस सामग्री को ज़माने के लिए फ्रीजिंग की जाती है ताकि यह सामग्री जमकर ठोस का रूप धारण कर ले। उसके बाद ग्राहकों की मांग के अनुसार Softy Ice Cream को निकालकर आइस क्रीम कोन में डालकर ग्राहकों को बेचा जाता है। इस उपयोग के लिए इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीन में फ्रीजिंग इत्यादि का सिस्टम मौजूद होता है।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Comment

error: Content is protected !!