एमएसएमई फ्री रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया। Free MSME Registration Process in Hindi.

MSME Registration पर बात करना इसलिए बेहद जरुरी हो जाता है क्योंकि हमारे देश भारतवर्ष में संगठित क्षेत्रों यानिकी बड़ी कम्पनियों से अधिक रोजगार एमएसएमई और असंगठित क्षेत्र पैदा करते हैं । कहने का आशय यह है की देश के एमएसएमई सेक्टर से एक बड़ी आबादी को रोजगार प्राप्त होता है अब चूँकि देश में बड़ी कम्पनियों की तुलना में एमएसएमई इकाइयों की संख्या अधिक है इसलिए MSME Registration पर बात करना बेहद जरुरी हो जाता है।

जहाँ पहले इस प्रकार के रजिस्ट्रेशन के लिए उद्यमियों को विभिन्न सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ते थे वहीँ बाद में केंद्र सरकार ने लघु उद्योग रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को ऑनलाइन बेहद सरल कर दिया था और उस रजिस्ट्रेशन को उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन का नाम दिया गया। लेकिन वर्तमान में भारत सरकार ने इस कार्य को निष्पादित करने के लिए एक अलग ही उद्यम पोर्टल की सरंचना की है इसलिए अब उद्यमी को एमएसएमई रजिस्ट्रेशन के लिए इसी अधिकारिक पोर्टल पर जाना होता है।

चूँकि केंद्र सरकार और राज्य सरकार एमएसएमई सेक्टर को प्रोत्साहित करने के लिए समय समय पर अनेकों योजनायें चलाती रहती हैं, और जो इकाई इनका फायदा लेना चाहती हैं उनका रजिस्ट्रेशन एमएसएमई के तौर पर होना नितांत आवश्यक है। लेकिन बिजनेस कर रहे उद्यमियों के मन में सवाल यह उठता है की क्या उनकी कंपनी भी एमएसएमई सेक्टर के तहत आती है या नहीं?

क्योंकि MSME Registration के लिए यह बेहद जरुरी हो जाता है की टर्नओवर के आधार पर उद्यमी का उद्यम एमएसएमई के दायरे में आना चाहिए। जहाँ पहले एमएसएमई की परिभाषा को सेवा क्षेत्र और विनिर्माण क्षेत्र में वर्गीकृत कर दिया गया था, वर्तमान में वर्गीकरण के आधार पर एमएसएमई की केवल एक ही परिभाषा दी गई है जो निम्न है।

MSME Registration Process hindi

एमएसएमई की परिभाषा (Definition of MSME in Hindi): 

MSME की परिभाषा जानने से पहले इसका फुल फॉर्म जानना अति आवश्यक हो जाता है MSME का फुल फॉर्म Micro, Small and Medium Enterprise होता है जिसका हिंदी में अर्थ सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम से लगाया जा सकता है। किसी भी उद्यम को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम की संज्ञा निम्न मानदंडों के आधार पर दी जा सकती है।

सूक्ष्म उद्यम (Micro Enterprise):

एक ऐसा उद्यम जिसमें प्लांट, मशीनरी या उपकरणों में एक करोड़ रूपये से अधिक का निवेश न किया गया हो, और इस उद्यम का टर्नओवर पांच करोड़ रूपये से अधिक न हो।

लघु उद्यम (Small Enterprise):

एक ऐसा उद्यम जिसमें प्लांट, मशीनरी या उपकरणों में दस करोड़ रूपये से अधिक का निवेश न किया गया हो, और इस उद्यम का टर्नओवर पचास करोड़ रूपये से अधिक न हो।

मध्यम उद्यम (Medium Enterprise):

एक ऐसा उद्यम जिसमें प्लांट, मशीनरी या उपकरणों में पचास करोड़ रूपये से अधिक का निवेश न किया गया हो, और इस उद्यम का टर्नओवर दो सौ करोड़ रूपये से अधिक न हो।

अब चूँकि अब आप एमएसएमई सेक्टर में कौन कौन से उद्यम आते हैं इसके बारे में अच्छी तरह से जान चुके हैं इसलिए यदि आप भी कोई उद्यम चलाते हैं तो आप आसानी से यह बात तय कर सकते हैं की आपका उद्यम एमएसएमई सेक्टर के तहत आता है या नहीं? या आपका उद्यम MSME Registration के लिए पात्रता रखता है या नहीं।

एमएसएमई रजिस्ट्रेशन के लिए आवश्यकता (Requirement for MSME Registration):

MSME Registration की ऑनलाइन प्रक्रिया के बारे में बताने से पहले यह बताना बेहद आवश्यक हो जाता है की उद्यमी को इस तरह का यह रजिस्ट्रेशन करने के लिए किन किन दस्तावेजों की आवश्यकता होती है। इस तरह का यह रजिस्ट्रेशन करने के लिए उद्यमी को जिन चीजों की आवश्यकता हो सकती है उनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • सबसे पहले उद्यमी का उद्यम एमएसएमई की परिभाषा के अनुसार एमएसएमई सेक्टर के तहत होना चाहिए। यानिकी यदि उद्यमी का उद्यम इतना बड़ा है की प्लांट, मशीनरी या उपकरणों में पचास करोड़ से अधिक का निवेश हुआ हो और टर्नओवर दो सौ करोड़ से अधिक हो फिर वह उद्यम एमएसएमई क्षेत्र से बाहर का माना जायेगा।
  • इस उद्यम रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में किसी भी प्रकार के दस्तावेज, कागजात, प्रमाणपत्र या कोई भी किसी प्रकार का सबूत अपलोड करने की आवश्यकता नहीं होगी और यह प्रक्रिया पूर्ण रूप से ऑनलाइन होगी। और इसके लिए उद्यमियों से किसी प्रकार का कोई शुल्क भी नहीं वसूला जाता है।
  • इस प्रक्रिया में आधार संख्या अनिवार्य रूप से चाहिए होगी इसलिए MSME Registration प्रक्रिया शुरू करने से पहले अपने सामने अपना आधार या आधार संख्या पहले ही रख लें।
  • प्रोप्राइटरशिप फर्म को स्वामी की आधार संख्या भरनी होगी, पार्टनरशिप फर्म के मामले में मैनेजिंग पार्टनर की आधार संख्या और हिन्दू अनडिवाइडेड फैमिली के मामले में कर्ता की आधार संख्या उद्यम रजिस्ट्रेशन के दौरान भरनी होगी।
  • इसके अलावा प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, लिमिटेड लायबिलिटी फर्म, सहकारी समिति, सोसाइटी या ट्रस्ट के मामले में संगठन के प्राधिकृत हस्ताक्षरकर्ता की आधार संख्या सहित संगठन का जीएसटीआईएन और पैन संख्या भरनी होगी।
  • ध्यान रहे कोई भी उद्यम एक उद्यम रजिस्ट्रेशन से अधिक रजिस्ट्रेशन कराने के लिए पात्र नहीं है।
  • यदि किसी के द्वारा MEME Registration के दौरान जानबूझकर, सोच समझकर गलत जानकारी प्रदान की जाती है तो वह व्यक्ति, संगठन इत्यादि अधिनियम की धारा 27 के अंतर्गत विनिर्दिष्ट दंड प्राप्त करने के लिए उत्तरदायी होगा।
  • इसके अलावा वे सभी उद्यम जो पहले से EM–Part-II या उद्योग आधार में पहले से रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं उन्हें भी उद्यम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना आवश्यक है।   

उद्यम रजिस्ट्रेशन की विशेषताएं

Udyam Registration यानिकी MSME Registration की कुछ प्रमुख विशेषताएं निम्नलिखित हैं।

  • उद्यम रजिस्ट्रेशन प्रकिया के लिए सरकार ने एक पूर्ण प्रणाली सुविधा प्रदान की है या पूर्ण रूप से ऑनलाइन आधारित है।
  • रजिस्ट्रेशन के बाद एक परमानेंट रजिस्ट्रेशन नंबर प्रदान करने का प्रावधान किया गया है।
  • जब रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया ऑनलाइन पूर्ण हो जाती है तो उसके बाद एक सर्टिफिकेट जारी कर दिया जाता है।
  • इस सर्टिफिकेट में एक डायनामिक क्यूआर कोड होता है जिसके माध्यम से इस पोर्टल पर उद्यम की डिटेल्स तक आसानी से पहुंचा जा सकता है।
  • MSME Registration को रीन्यू करने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • यह रजिस्ट्रेशन निशुल्क है इसलिए किसी को भी किसी प्रकार की फीस इत्यादि का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होती है।
  • यह पंजीकरण निशुल्क होने के साथ साथ पेपरलेस और स्वघोषणा पर आधारित है।
  • किसी भी प्रकार के दस्तावेज अपलोड करने की आवश्यकता नहीं है केवल आधार संख्या की आवश्यकता होती है ।
  • हालांकि नए वित्त वर्ष अप्रेल 2021 से पैन और जीएसटी नंबर होना इस पंजीकरण के लिए अनिवार्य हो जायेगा।                     

एमएसएमई रजिस्ट्रेशन फ्री में कैसे करें? (MSME Registration Process):

MSME Registration Process शुरू करने से पहले उद्यमी को विभिन्न बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। पहली बात तो यह की यह उद्यम रजिस्ट्रेशन पूर्ण रूप से मुफ्त, पेपरलेस और स्वघोषणा पर आधारित एक ऑनलाइन प्रक्रिया है। इसलिए उद्यमी को किसी को भी इसके लिए कुछ भी भुगतान नहीं करना चाहिए, दूसरा यह की इस रजिस्ट्रेशन को सिर्फ अधिकारिक पोर्टल उद्यम रजिस्ट्रेशन  के माध्यम से किया जा सकता है इसलिए किसी अन्य अनधिकृत पोर्टल पर पंजीकरण से उद्यमी को बचना चाहिए।

हालांकि कुछ और डोमेन भी सरकार द्वारा इस कार्य हेतु बनाये गए हैं जिनकी लिस्ट इसी अधिकारिक पोर्टल पर दी गई है । इसलिए सबसे पहले उद्यमी को उपर्युक्त दिए गए अधिकारिक पोर्टल पर जाना होगा फिर New Registration या Migrate to Udyam विकल्पों में से किसी एक विकल्प का चुनाव करके आगे बढ़ना होगा यदि आपने अपने उद्यम को आधार उद्योग मेमोरेंडम में रजिस्टर कराया है।

तो आपको दुसरे विकल्प Migrate To Udyam का चुनाव करके आगे बढ़ना होगा नहीं तो पहले विकल्प का चुनाव करके ही आगे बढ़ सकते हैं। बाकी इस पोर्टल द्वारा दिए गए इंस्ट्रक्शन के आधार पर डिटेल्स भरते जाएँ और इस प्रक्रिया को पूर्ण करें।

अन्य लेख भी पढ़ें

Leave a Comment

error: Content is protected !!