अंडे की ट्रे बनाने का बिजनेस करके भी हो सकते हैं मालामाल, जानिए कैसे

Egg Tray Business Plan in Hindi: अंडे की ट्रे को एग बॉक्स के तौर पर भी जाना जाता है । अंडा हर घर में इस्तेमाल में लाया जाने वाला एक प्रमुख खाद्य पदार्थ है, जिसे प्रोटीन और विटामिन का अच्छा स्रोत माना जाता है। लेकिन अंडा टूटने फूटने वाली वस्तु है इसलिए इसे सुरक्षित रूप से एक स्थान से दुसरे स्थान को ले जाने और परिवहन करने के लिए अंडे की ट्रे का इस्तेमाल किया जाता है।

इस ट्रे को इस तरह से तैयार किया जाता है की इसके पिछले तरफ उभार और सामने की तरफ जहाँ पर अंडे को रखा जाता है, वहाँ पर अंडे के आकार के बराबर गहराई होती है। आम तौर पर एक ट्रे में लगभग 30 अण्डों को आराम से रखा जा सकता है। इस ट्रे को इस तरह से डिजाईन किया गया है की परिवहन के समय अंडे एक दुसरे से न टकराएँ और सुरक्षित वहाँ तक पहुँच सकें, जहाँ इन्हें ले जाया जा रहा हो।

अंडे की ट्रे की यह डिजाईन अण्डों को परिवहन करते समय लगने वाले झटकों, इनको स्टोर करते समय होने वाले तनावों इत्यादि के दौरान अंडे के फूटने की घटनाओं को कम करके इनकी सुरक्षा करती है। इसे कई तरह की सामग्री जैसे पॉलीस्टाइन फोम, प्लास्टिक, फोमयुक्त प्लास्टिक, गत्ते, लुगदी इत्यादि से बनाया जा सकता है।

egg tray banane ka business

अंडे की ट्रे के इस्तेमाल के फायदे  

एग ट्रे का इस्तेमाल अण्डों को बिना टूटे फूटे उनके गंतव्य तक पहुँचाने के लिए किया जाता है। इसके कुछ प्रमुख फायदों की लिस्ट निम्नवत है ।

अण्डों की सुरक्षा करते हैं  –

रौशनी और नमी के चलते अंडे खराब भी हो सकते हैं, ऐसे में यदि वे ट्रे में हैं तो उन पर नमी और रोशनी का असर कम होता है। इसके अलावा अंडे की ट्रे अण्डों को बाहरी झटकों से भी बचाती है।

आसान परिवहन को सक्षम बनाते हैं  –  

अण्डों का उत्पादन किया ही इसलिए जाता है, ताकि इन्हें बाज़ार में बेचकर कमाई की जा सके। लेकिन चूँकि यह टूटने फूटने वाली वस्तु होती है। लेकिन इसके बावजूद अण्डों को भी अनेकों बार हैंडलिंग, परिवहन और भण्डारण की प्रक्रियाओं से गुजरना होता है। इन प्रक्रियाओं को पूर्ण करने के लिए अण्डों की सुरक्षित पैकिंग होना जरुरी है, अंडे की ट्रे से यह कर पाना संभव होता है।

बिक्री बढ़ोत्तरी में सहायक होते हैं

वर्तमान परिदृश्य में लोग खरीदारी के प्रति बड़े जागरूक हो गए हैं, और चूँकि लोगों के भौतिक स्तर में सुधार देखा गया है । इस भौतिक स्तर में सुधार के साथ वे अधिक गुणवत्ता वाली चीजों को खरीदना पसंद करते हैं। और बाज़ार में उपलब्ध उत्पादों के बारे में कहा जाता है की जिनकी पैकिंग अच्छी होती है वे अच्छे उत्पाद होते हैं।

अण्डों के मामले में भी ऐसा ही है, अंडे की ट्रे में अंडे सुरक्षित एवं अधिक ताजे दिखते हैं, जिससे ग्राहक इनको खरीदने के लिए उत्सुक होते है। इस प्रकार से देखें तो अंडे की ट्रे अण्डों की उत्तम और अद्वितीय पैकिंग को सक्षम बनाते हैं, और उत्तम पैकिंग इनकी बिक्री को बढ़ावा देती है।  

अंडे की ट्रे बनाने का बिजनेस कैसे शुरू करें

Egg tray Banane ka Business Kaise Start Kare: अंडे केवल भारत में ही नहीं अपितु दुनियाभर में प्रोटीन और विटामिन का प्रमुख स्रोत माने जाते हैं। इसलिए इनका इस्तेमाल कई प्रकार की डिश बनाने के लिए होटल, रेस्टोरेंट, खाद्य स्टालों, रेहड़ी पटरियों लगभग हर जगह किया जाता है।  

चूँकि अंडे टूटने फूटने वाले आइटम होते हैं, इसलिए इनकी सुरक्षित पैकेजिंग में अंडे की ट्रे का अहम् योगदान है। यद्यपि जिन कंपनियों द्वारा एग ट्रे का निर्माण किया जाता है, वे लगातार अण्डों की पैकेजिंग के लिए और अधिक सुरक्षित रास्तों के बारे में सोचते रहते हैं।

लेकिन इनमें वर्तमान में गत्ते से बनने वाली अंडे की ट्रे काफी लोकप्रिय है, क्योंकि इसको रीसायकल करना भी बेहद आसान है। तो आइये जानते हैं की कोई इच्छुक उद्यमी खुद का अण्डों की ट्रे बनाने का व्यवसाय कैसे शुरू कर सकता है।

बिजनेस प्लान तैयार करें

यदि आप बिजनेस प्लान के बारे में नहीं जानते हैं, तो आपको बता देना चाहेंगे की यह किसी भी तरह का बिजनेस शुरू करने से पहले तैयार किया गया एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है। इसमें उद्यमी अपने व्यापार को शुरू करने से लेकर उसे एक दो साल में कहाँ पहुँचाना चाहता है, तक का सम्पूर्ण लेखा जोखा होता है।

ध्यान रहे बिजनेस प्लान में किसी भी बात का उल्लेख करते हुए उसे व्यवहारिकता पर तोलना आवश्यक है। कहने का आशय यह है की एक अच्छे एवं प्रभावी बिजनेस प्लान के अन्दर कोई भी आंकड़ा या जानकारी काल्पनिक नहीं होनी चाहिए। अपने बिजनेस की योजना बनाते समय आप निम्न प्रश्नों के जवाब तलाश करने की कोशिश कर सकते हैं।

  • आपके द्वारा स्थापित प्लांट की क्षमता क्या होगी?
  • पूरे प्रोजेक्ट को मूर्त रूप देने में कितना खर्चा आएगा?
  • वित्त का प्रबंध करने के लिए किन किन स्रोतों का इस्तेमाल करेंगे?
  • बिजनेस स्टार्ट होने के एक साल बाद आप अपने बिजनेस को आर्थिक रूप से कहाँ देखना चाहेंगे?
  • आप अपने आर्थिक लक्ष्य को पूरा करने के लिए क्या क्या कदम उठाएंगे?
  • आपका व्यवसाय अगले एक साल में कितने उत्पादों को बेचेगा की आप अपने आर्थिक लक्ष्य तक पहुँच जाय?

जगह और बिल्डिंग का प्रबंध करें

हालांकि उद्यमी को जगह और बिल्डिंग की आवश्यकता कितनी होगी, यह उसके प्लांट की क्षमता पर निर्भर करेगा। लेकिन जानकारी के मुताबिक एक ऐसा प्लांट जिसमें प्रति घंटे 1400 एग ट्रे का निर्माण किया जा सकता है। के लिए लगभग 1 एकड़ भूमि की आवश्यकता हो सकती है।

इस एक एकड़ भूमि में से लगभग 1200 Square Feet जगह में निर्माण करने की आवश्यकता होती है। कंस्ट्रक्शन कास्ट समय और स्थिति के आधार पर परिवर्तित हो सकती है।  

जरुरी लाइसेंस और पंजीकरण प्राप्त करें

उद्यमी चाहे तो अपने उद्यम को प्रोप्राइटरशिप के तहत भी रजिस्टर कर सकता है, लेकिन एकल स्वामित्व के तहत एक व्यक्ति के तौर पर आपकी लायबिलिटी बढ़ जाती है। व्यवसाय से जुड़ी किसी भी गड़बड़ी के लिए उद्यमी व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदार होता है, और उसकी भरपाई उसकी व्यक्तिगत सम्पति से की जा सकती है।

जबकि यदि आप वन पर्सन कंपनी, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के तहत रजिस्टर करते हैं, तो व्यक्तिगत व्यक्ति के तौर पर आपकी लायबिलिटी कम हो जाती हैं। इसके अलावा उद्यमी को टैक्स रजिस्ट्रेशन, उद्यम रजिस्ट्रेशन, बैंक में चालू खाता इत्यादि भी खुलवाने की आवश्यकता होती है। खुद का ब्रांड स्थापित करने के लिए ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन करने की भी जरुरत होती है।    

मशीनरी और कच्चे माल की खरीदारी करें

एक ऐसा प्लांट जिसकी प्रति घंटा उत्पादन क्षमता 1400 अंडे की ट्रे हो, को स्थापित करने के लिए उद्यमी को 35-45 लाख के मशीनरी और उपकरण खरीदने की आवश्यकता हो सकती है। वैसे तो इस तरह की यह मशीन भारत में भी मिल जाती हैं, लेकिन यदि ऐसा नहीं है तो उद्यमी को बाहर से भी मशीन आयात करनी पड़ सकती हैं। अंडे की ट्रे बनाने में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीनरी की लिस्ट निम्नवत है ।

  • पल्पर
  • चेस्ट टैंक
  • agitator
  • वाटर टैंक
  • मौल्डिंग मशीन
  • ट्राली
  • विभिन्न डाई

कच्चे माल की लिस्ट निम्नवत है।

  • डुप्लेक्स पेपर
  • कॉपी किताब का ख़राब पेपर  

आवश्यक कर्मचारियों को नियुक्त करें

इस तरह की इकाई में उद्यमी को 5 से 6 कर्मचारियों को नियुक्त करने की आवश्यकता हो सकती है। इनमें कम से कम 2 स्किल्ड लेबर 3 से 4 अनस्किल्ड लेबर की आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा एक सुरक्षा गार्ड और एक ऑफिस में काम करने वाले कर्मचारी की भी आवश्यकता हो सकती है।    

कमर्शियल ट्रायल शुरू करें    

अब जब उद्यमी द्वारा अंडे की ट्रे बनाने के लिए सभी प्रक्रियाएं पूर्ण कर ली गई हों, तो अब उसे अपने प्लांट पर इनका कमर्शियल ट्रायल उत्पादन शुरू कर देना चाहिए। इनकी निर्माण प्रक्रिया बहुत सरल है जिसे संक्षेप में हम नीचे बता रहे हैं।

निर्माण प्रक्रिया – सबसे पहले आपको कच्चे माल यानिकी डुप्लेक्स पेपर और लगभग 30% ख़राब कॉपी और किताब को पल्प मेकिंग मशीन में डालना होता है। फिर इसमें पानी और अन्य कच्चा माल एड करना होता है, ताकि यह ख़राब कॉपी किताब से उनकी लुगदी तैयार कर दे। यह प्रक्रिया पेपर को रीसायकल करने की प्रक्रिया है ।

उसके बाद इस लुगदी को पाइपलाइन के माध्यम से मौल्डिंग मशीन में भेजा जाता है, मोल्ड के हिसाब से यह मोल्डिंग मशीन अलग अलग तरह की एफ ट्रे बनाने में सक्षम होती हैं। इस मौल्डिंग मशीन की मदद से सेब की पैकिंग के लिए ट्रे, शराब की पैकिंग के लिए ट्रे इत्यादि भी बनाई जा सकती हैं।

मौल्डिंग प्रक्रिया के बाद अंडे की ट्रे को उसका बेसिक ढाँचा मिल जाता है, लेकिन इस समय ये गीली होती हैं, इसलिए अगली प्रक्रिया में इन्हें सुखाने की आवश्यकता होती है।

उसके बाद इन ट्रे को ड्राइंग लाइन में भेजा जाता है, जो की बहुत लम्बी होती है। इस सेक्शन में इन पर गरम हवा पड़ती है, जो यह सुनिश्चित करती है की ये ट्रे कम से कम समय में सूखकर तैयार हो जाएँ। और जब अंडे की ट्रे सूख जाती हैं तो इन्हें पैकेजिंग सेक्शन में भेज दिया जाता है। और उसके बाद इन्हें बाज़ार में बेचने के लिए भेजा जाता है।   

अन्य भी पढ़ें  

error: Content is protected !!