ऑनलाइन मार्केटिंग क्या है और कैसे करें । How to do online marketing in India.

Online Marketing नामक यह शब्द अब शायद किसी परिचय का मोहताज नहीं रह गया है, क्योंकि वर्तमान में सैकड़ों हजारों उत्पाद एवं सेवाएं ऑनलाइन ही बिकती हैं । इसलिए ध्यान रहे की जहाँ जहाँ ग्राहक या लोग उपलब्ध हैं वहां वहां बिजनेस की मार्केटिंग की संभावना भी व्यापत है। वर्तमान में मनुष्य कुछ भी सेवा या उत्पाद खरीदना चाहता है भले ही वह उसे ख़रीदे किसी स्टोर रूप या दुकान से लेकिन एक बार ऑनलाइन उस उत्पाद या सेवा के बारे में जानने की कोशिश वह अवश्य करता है।

इसलिए कहा जा सकता है की वर्तमान समय में कोई भी उद्यमी/व्यापारी जो किसी उत्पाद का निर्माण एवं सेवा को बेच रहा होता है उसे अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए ऑनलाइन मार्केटिंग करने की नितांत आवश्यकता होती है। यद्यपि इस तरह की मार्केटिंग करने के लिए व्यापारी के पास ऑनलाइन रैकिंग सम्बन्धी जानकारी होनी चाहिए । इसलिए बड़ी कम्पनियाँ अक्सर इस तरह की यह जिम्मेदारी किसी डिजिटल एजेंसी या डिजिटल मार्केटर को देती हैं।

तो कुछ कम्पनियाँ इस तरह के कार्यों को निष्पादित करने के लिए लग सा विभाग बनाकर उसमें अनुभवी एवं जानकार लोगों को नियुक्त करती हैं। इन्टरनेट मार्केटिंग की उत्पति दुनिया में इन्टरनेट के बढ़ते प्रचलन के साथ ही हुई है। आज दुनिया में शायद ही कोई ऐसा सर्विस या उत्पाद होगा जिसकी जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध नहीं होगी। इससे पहले की हम यह जानने की कोशिश करें की किसी उद्यमी या व्यापारी के पास अपने व्यापार की ऑनलाइन मार्केटिंग के लिए क्या क्या विकल्प मौजूद हैं । आइये जानते हैं की इस तरह की यह मार्केटिंग होती क्या है? ।

best ways for online marketing in hindi

ऑनलाइन मार्केटिंग क्या है (What is Online Marketing)

इस प्रकार की मार्केटिंग की यदि हम बात करें तो यह वेब आधारित चैनलों के माध्यम से किसी कंपनी या व्यापारी के उत्पादों, सेवाओं, ब्रांड के बारे में उसके संभावित ग्राहकों को जानकारी एवं सन्देश पहुँचाने की एक प्रक्रिया है।

इस प्रकिया में अनेकों तरीके जैसे ईमेल, सोशल मीडिया, डिस्प्ले एडवरटाइजिंग, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन, गूगल एड, सोशल मीडिया एड इत्यादि शामिल हैं जिनके माध्यम से ऑनलाइन मार्केटिंग को प्रभावी ढंग से अंजाम तक पहुँचाया जाता है। जैसा की हम सबको अच्छी तरह से विदित है की मार्केटिंग का प्रमुख उद्देश्य अपने संभावित ग्राहकों तक पहुँचना होता है।

इसलिए इस प्रक्रिया में उस एरिया को टारगेट किया जाता है जहाँ किसी व्यापार विशेष के संभावित ग्राहक ऑनलाइन पढ़ने, ऑनलाइन सर्च करने, ऑनलाइन खरीदारी करने या सामाजिककरण में अधिक समय बिताते हैं।

कहने का आशय यह है की व्यवसायिक एवं व्यक्तिगत जीवन में इन्टरनेट के बढ़ते इस्तेमाल ने मार्केटिंग के लिए नए चैनल तैयार किये हैं जिनमें से कुछ का नाम हम उपर्युक्त दे चुके हैं। पारम्परिक मार्केटिंग में जहाँ प्रिंटिंग, बिलबोर्ड, रेडियो, टेलिविज़न इत्यादि विज्ञापनों का इस्तेमाल किया जाता है वहीँ Online Marketing पारम्परिक मार्केटिंग से पूर्ण रूप से भिन्न है । 

ऑनलाइन मार्केटिंग कैसे करें (How to do online marketing)

Online Marketing Kaise Kare : आज जब सारी दुनिया हर क्षेत्र में इन्टरनेट का बढ़ चढ़कर इस्तेमाल कर रही है तो ऐसे में सवाल यही उठता है की कैसे कोई व्यापारी या कंपनी खुद के व्यापार का विपणन करके इसका लाभ कैसे ले सकती है। अर्थात उद्यमी के पास ऐसे कौन कौन से तरीके हैं जिनके माध्यम से वह अपने व्यापार की ऑनलाइन मार्केटिंग करने में सक्षम हो पाए।

इसलिए आगे इस लेख में हम उन्हीं तरीकों पर अपने लेख को केन्द्रित करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन यहाँ पर यह अवश्य स्पष्ट कर देना चाहते हैं की इसमें कुछ भुगतानित तरीके अर्थात जिनका इस्तेमाल करने के लिए व्यापारी को पैसे खर्च करने की आवश्यकता होती है तो कुछ ऐसे तरीके हैं जिनका इस्तेमाल व्यापारी बिलकुल मुफ्त में भी कर सकता है। तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे तरीकों के बारे में जिनके माध्यम से व्यापारी अपने व्यापार की मार्केटिंग ऑनलाइन कर सकता है।

1. ब्लॉग के जरिये जानकारी (Publish blog about your product)

जैसा की हम देखते आये हैं की हर कंपनी या बिजनेस इकाई की स्वयं की वेबसाइट होती है इसलिए उद्यमी चाहे तो इसी वेबसाइट के अंतर्गत ब्लॉग की एक श्रेणी बनाकर उसमें प्रतिदिन अपने व्यापार से सम्बंधित उच्च गुणवत्ता वाली जानकारी प्रकाशित कर सकता है। यदि व्यापारी के पास उसके व्यापार की कोई वेबसाइट नहीं है तो वह फिर भी एक ब्लॉग बना सकता है इसके लिए वह चाहे तो अपनी क्षमता के मुताबिक किसी वेब डेवलपर एवं कंटेंट राइटर को नियुक्त कर सकता है।

यदि उद्यमी का बजट इस बात की आज्ञा उसे नहीं देता है तो वह किसी फ्रीलान्स वेब डेवलपर एवं कंटेंट राइटर को यह काम देकर इसे कम बजट में भी कर सकता है। हालांकि इसमें कोई दो राय नहीं की मार्केटिंग का यह ऑनलाइन तरीका बेहद कम समय में परिणाम नहीं देगा बल्कि उद्यमी को दीर्घ अवधि की रणीनीति बनाकर ही इस तरह का कार्य करना होगा। और कभी भी ऑनलाइन मार्केटिंग की इस विधि से रातों रात परिणाम की अपेक्षा कभी नहीं करनी चाहिए।

2. Medium और Quora में कंटेंट प्रमोशन  

यदि व्यापारी अपने ब्लॉग पर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए लालायित है और उसके डोमेन की अथॉरिटी भी कुछ ज्यादा पुरानी नहीं है जिस कारण उसका ट्रैफिक बढ़ नहीं पा रहा है। तो इस स्थिति में मार्केटिंग का दूसरा तरीका यह है की व्यापारी अपने ब्लॉग के कंटेंट को Quora और Medium जैसी वेबसाइट के माध्यम से प्रमोट कर सकता है। जहाँ तक सवाल है की यह प्रक्रिया कैसे काम करेगी तो उसके बारे में हम बताना चाहेंगे की सर्वप्रथम ब्लॉग में ऐसा कंटेंट लिखना होगा।

जो लोगों की किसी न किसी स्वरूप में मदद करता हो। जब आप यह काम कर देते हैं तो उसी विषय पर एक आर्टिकल मीडियम या फिर Quora जैसी वेबसाइट के लिए लिखें और अंत में अपने ब्लॉग का लिंक देना न भूलें। इसी को आम तौर पर कंटेंट मार्केटिंग भी कहा जाता है और इसका गूगल सर्च की रैंकिंग में काफी प्रभाव पड़ता है। इसके अलावा Quora और मीडियम जैसी वेबसाइट के माध्यम से भी ट्रैफिक आने की संभावना बढ़ जाती है।

3. लिंक्ड इन ग्रुप्स (use linked in groups to connect others)  

लिंक्ड इन ग्रुप भी व्यापारी के लिए अपने ही इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के बीच ऑनलाइन मार्केटिंग करने का एक बेहतरीन जरिया बन सकता है। लिंक्ड इन के माध्यम से भी व्यापारी अपने कंटेंट को प्रमोट कर सकता है। लेकिन कभी कभी लिंक्ड इन ग्रुप में अधिक लिंक पोस्ट करने पर स्पैम की श्रेणी में भेजा जा सकता है और फिर उद्यमी इनके माध्यम से कंटेंट मार्केटिंग करने में असमर्थ हो सकता है।

इसलिए ग्रुप में अपने लिंक सबमिट करने से पहले ग्रुप मेम्बर के साथ इसकी आधारशीला अवश्य रख लें ताकि किसी को यह न लगे की इस लिंक का तो यहाँ पर कोई काम नहीं था। लेकिन फिर भी इसे जबरदस्ती सबमिट कर दिया गया। इसके अलावा इन ग्रुप के माध्यम से व्यापारी उन लोगों से भी कनेक्ट हो सकता है जिन्हें वह जानता भी नहीं हो इनके माध्यम से व्यापारी इनमें बिना जुड़े ही मेसेज भी कर सकता है।

4. फेसबुक एड एवं लैंडिंग पेज (Use facebook & Landing Page)

फेसबुक पर प्रोफाइल बनाना पेज बनाना जैसी प्रक्रियाएं तो एकदम फ्री हैं अर्थात इसके लिए किसी भी प्रकार का शुल्क जमा करने की आवश्यकता नहीं होती है। लेकिन जब बात फेसबुक विज्ञापन की आती है तो इसका लाभ लेने के लिए व्यापारी को पैसे खर्च करने की आवश्यकता होती है। मार्केटिंग का यह ऑनलाइन तरीका व्यापारी को अपने संभावित ग्राहकों तक पहुँचने में मदद करता है। जब व्यापारी को अच्छी तरह से पता होता है की उसके उत्पाद या सेवा को कौन कौन से लोग खरीद सकते हैं।

तो उसके बाद फेसबुक ऐड बनाते समय व्यापारी द्वारा भगौलिक स्थिति, वैवाहिक स्थिति, उम्र, रूचि इत्यादि के आधार पर ऑडियंस का चुनाव किया जा सकता है जिसका मतलब होता है की व्यापारी का विज्ञापन सिर्फ टारगेट लोगों को ही दिखाया जाएगा। जिससे कन्वर्जन की दर तो उच्च रहती ही है लक्षित लैंडिंग पेज पर उन्हें पहुँचाकर उत्पाद या सेवा के बिकने की संभावना भी बहुत अधिक हो जाती है। हालांकि शुरूआती दौर में कौन से लैंडिंग पेज को पसंद किया जा रहा है का पता लगाने की दृष्टी से व्यापारी को इन विज्ञापनों पर बेहद कम पैसा खर्च करना चाहिए।

5. इन्स्टाग्राम इन्फ्लुएंसर (contact with Instagram Influencer)

वर्तमान में सोशल मीडिया की शक्ति एवं प्रचलन दिनों दिन बढ़ता जा रहा है क्योंकि इस तरह के प्लेटफोर्म का इस्तेमाल करने वाले लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि होती जा रही है। इसलिए आज कोई भी व्यक्ति अपनी बात को सोशल मीडिया के माध्यम से दुनिया के कोने कोने तक पहुंचा सकता है।

लेकिन सोशल मीडिया के अल्गोरिदम एक सिस्टम के तहत ही कार्य करते हैं और अक्सर देखा गया है की जिनके लाखों करोड़ों फॉलोअर्स होते हैं उनके पोस्ट या कंटेंट लाखों करोड़ों लोगों तक पहुँचती है। इसलिए इस तरीके को प्रभावीपूर्ण ढंग से लागू करने के लिए व्यापारी को इन्स्टाग्राम इन्फ्लुएंसर (जिनके लाखों करोड़ों फॉलोअर हों) होती है। जो की व्यापारी से कुछ पैसे लेकर प्रायोजित पोस्ट या कंटेंट अपने फॉलोअर के बीच शेयर करते हैं।

6. YouTube पर विडियो (Publish your product video in YouTube)

वेब यानिकी इन्टरनेट पर उद्यमी के व्यापार की मार्केटिंग के लिए Youtube बेहद ही शानदार एवं उत्कृष्ट संसाधन प्रदान करता है। इसमें उद्यमी बिना एक रूपये खर्च करके भी स्वयं का यूट्यूब चैनल बना सकता है। इसलिए जब आपके उत्पाद को देखने के लिए जनता न हो लेकिन आप उसे जनता को दिखाना चाहते हैं इस स्थिति में मार्केटिंग का यह तरीका बेहद मददगार साबित हो सकता है।

उद्यमी जो भी सेवा या उत्पाद बेच रहा हो उसकी वह टुटोरिअल विडियो बनाकर स्वयं के यूट्यूब चैनल में नित्य प्रकाशित कर सकता है । इससे व्यापारी के व्यापार से अधिक से अधिक लोगों के जुड़ने को बल मिलेगा और इस वक्त उद्यमी का ध्यान प्रॉफिट कमाने का नहीं बल्कि अपने बिजनेस का नाम करने का होना चाहिए । वर्तमान में YouTube किसी भी उत्पाद या सेवा पर टुटोरिअल विडियो बनाकर प्रकाशित करने का एक बेहतरीन संसाधन है। लेकिन ध्यान रहे बनाये गए टुटोरिअल या कंटेंट उच्च क्वालिटी के अलावा उद्यमी के व्यापार के लिए प्रासंगिक हों।

7. ईमेल मार्केटिंग के जरिये Online Marketing करें

ऑनलाइन मार्केटिंग का यह तरीका जितना आसान लगता है उतना है नहीं बल्कि सच्चाई यह है की उद्यमी को ग्राहकों की ईमेल आईडी पर कुछ न कुछ ऐसा भेजने की आवश्यकता होती है। जो फ्री हो और उनके काम आ सके। हालांकि यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसे हर उद्यमी को अपने व्यापार की मार्केटिंग के लिए इस्तेमाल में लाना चाहिए।

जहाँ तक ईमेल पतों की बात है इन्हें उद्यमी अपनी वेबसाइट के कांटेक्ट अस, सब्सक्राइब विकल्प इत्यादि के माध्यम से प्राप्त कर सकता है। और समय समय पर ईमेल भेजने के लिए ईमेल मार्केटिंग सिस्टम जैसे Awebar, Get Response, Mail Chimp इत्यादि  का इस्तेमाल कर सकता है।

8. अपने Niche के ब्लॉगर्स के साथ कोलाब्रेट करें (Collaborate with bloggers)

अपने Niche के अन्य ब्लॉगर्स के साथ कोलाब्रेट करना भी मार्केटिंग के सबसे प्रभावी तरीकों में से एक तरीका हो सकता है। इसलिए ध्यान रहे यदि उद्यमी को कोई ऐसा लोकप्रिय ब्लॉगर नज़र आता है जो आपके व्यापार से समबन्धित लेख लिखता है तो तलाश करें की आप उसके साथ कोलाब्रेट करके अपने व्यापार की मार्केटिंग कैसे कर सकते हैं।

इसके लिए उद्यमी चाहे तो उस प्रसिद्ध ब्लॉगर से गेस्ट पोस्ट सबमिट करने की अनुमति प्राप्त कर सकता है या फिर कुछ ब्लॉगर प्रायोजित पोस्ट भी पैसे लेकर अपने ब्लॉग के माध्यम से पोस्ट करने पर राजी हो सकते हैं। माना की आप कोई होस्टिंग बेचने वाली कंपनी हैं तो आपको ऐसे ब्लॉगर की तलाश होनी चाहिए जो लोगों को वेब डेवलपिंग इत्यादि की जानकारी देता हो।

9. याहू लोकल एवं गूगल माय बिजनेस (Use Yahoo Local & Google business)

अपने व्यापार की ऑनलाइन उपस्थिति बनाने एवं अपने बिजनेस को ऑनलाइन प्रमोट करने का यह भी एक प्रभावी तरीका है। याहू और गूगल दोनों ही छोटे व्यापारियों यानिकी छोटे दुकानदारों को भी अपने व्यापार की ऑनलाइन उपस्थिति बनाने एवं उसे ऑनलाइन प्रमोट करने का अवसर प्रदान करते हैं। इनमें उद्यमी अपने बिजनेस को फ्री में लिस्ट कर सकता है आम तौर पर इसमें बिजनेस का नाम, पता, खुलने का समय, संपर्क एवं दुकान की कुछ फोटो अपलोड करने की आवश्यकता होती है।

उसके बाद गूगल या याहू द्वारा उसी पते पर डाक या कूरियर द्वारा एक लिफाफा भेजा जाता है जिसमें वेरिफिकेशन कोड अंकित होता है। और उद्यमी को इस वेरिफिकेशन कोड के माध्यम से अपने बिजनेस को वेरीफाईड करना होता है। वेरीफाई होने के बाद आपका बिजनेस गूगल में दिखना शुरू हो जाता है जिसमें आपके ग्राहक आपके बारे में रिव्यु भी दे सकते हैं।

10. फ्री बिजनेस डायरेक्ट्रीज (List your business in free business directories)

बिजनेस इकाइयों में हो रही वृद्धि के चलते उद्यमी अपने व्यापार की लिस्टिंग के लिए प्रतिबद्ध रहते हैं ताकि वे अपने व्यापार को प्रमोट कर पाने में सक्षम हो पायें। फ्री ऑनलाइन बिजनेस डायरेक्ट्रीज में अपने व्यापार की लिस्टिंग कराना भी एक प्रभावी तरीका है। कहने का आशय यह है की इस तरह की यह ऑनलाइन व्यापारिक डायरेक्ट्रीज ग्राहकों के लिए मैन्युफैक्चर एवं सप्लायर पाने का ही मार्केटप्लेस नहीं बल्कि इनके माध्यम से बिजनेस इकाइयाँ अपने व्यापार में वृद्धि भी देख सकती हैं।

यही कारण है की ये Online Marketing का भी एक व्यवहारिक एवं प्रभावी तरीका है। लेकिन अलग अलग देशों में इस प्रकार की अलग अलग डायरेक्ट्रीज हो सकती हैं जहाँ तक अपने देश भारत की बात है यहाँ Indiabizlist, Indiamart,  Indyapages, TradeIndia, Yellow Pages India जैसी अनेकों फ्री ऑनलाइन बिजनेस डायरेक्ट्रीज हैं, जिनके माध्यम से उद्यमी अपने व्यापार की मार्केटिंग ऑनलाइन कर सकता है।

FAQ on Online Marketing

  1. क्या ऑनलाइन मार्केटिंग से बिक्री बढ़ेगी?

    जी हाँ यदि आपने अपने उत्पाद या सेवा के लिए उचित प्लेटफार्म का चुनाव किया हो, तो आपकी बिक्री अवश्य बढ़ेगी।

  2. क्या मुफ्त में भी ऑनलाइन मार्केटिंग की जा सकती है?

    जी हाँ बिलकुल Online Marketing मुफ्त में भी की जा सकती है, इस लेख में जो तरीके बताये गए हैं उनमें कुछ तरीके ऐसे हैं, जो फ्री में अमल में लाये जा सकते हैं।  

अन्य भी पढ़ें

error: Content is protected !!